U19 World Cup Final: भारत की खराब बल्लेबाजी से क्या वर्ल्ड कप छिन जाएगा?

दक्षिण अफ्रीका में चल रहे अंडर-19 वर्ल्ड कप का फाइनल मुकाबला 09 फरवरी को खेला जा रहा है. भारत और बांग्लादेश के बीच. बांग्लादेश ने टॉस जीतकर पहले फील्डिंग चुनी. दोनों टीमें टूर्नामेंट में एक भी मैच नहीं हारी है. भारत अपने पांचवें अंडर-19 वर्ल्ड कप जीतने की फ़िराक़ में है, जबकि बांग्लादेश ये फाइनल जीतकर अपना खाता खोल सकती है. मैच के पहले हाफ यानी कि आधे हिस्से में बांग्लादेश की टीम भारत से काफी बेहतर साबित हुई.

भारत की पहली पारी 177 के स्कोर पर समाप्त हो गई है. टीम पूरे 50 ओवर तक बैटिंग नहीं कर पाई. भारतीय टीम एक वक्त तीन विकेट के नुकसान पर 156 रन बनाकर खेल रही थी. लेकिन जैसे ही यशस्वी जायसवाल आउट हुए, आया राम गया राम का सिलसिला चल निकला. टीम ने अगले 21 रन बनाने में सात विकेट गंवा दिए.

# बैटिंग ने नाक कटाई

भारतीय टीम अपनी बैटिंग के दम पर अंडर-19 वर्ल्ड कप में धमाल मचा रही थी. सेमीफाइनल में उसने पाकिस्तान को 10 विकेट से हराया था. लेकिन फाइनल मुकाबले में सिर्फ यशस्वी जायसवाल का बल्ला चला. जायसवाल लगातार दूसरे शतक से चूक गए. उन्होंने 88 रनों की पारी खेली. तिलक वर्मा ने 38 और ध्रुव जुरेल ने 22 रन बनाए. इसके अलावा कोई और बल्लेबाज दहाई के आंकड़े तक भी नहीं पहुंच पाया.

# तालमेल की कमी

READ  ICC ने पोस्ट किया शिवम दुबे का रिकॉर्ड और वायरल हो गया स्टुअर्ट ब्रॉड का कमेंट

भारत की बैटिंग के दौरान पिच पर बल्लेबाजों के बीच तालमेल की साफ कमी दिखी. कॉल किए बिना अपनी दिशा में भागने की कोशिश में रनआउट होते-होते बचे. फिर भी भारत के दो बल्लेबाज रन आउट हुए.

इस रन आउट पर मीम बनने शुरु हो चुके हैं.
इस रन आउट पर मीम बनने शुरु हो चुके हैं.

ध्रुव जुरेल और अथर्व अंकोलेकर के बीच तालमेल ऐसा बिगड़ा कि दोनों एक ही छोर पर भागते नज़र आए. रवि बिश्नोई भी रन आउट होकर पवेलियन लौटे. भारतीय बल्लेबाजों को सिंगल निकालने में भी काफी मशक्कत करनी पड़ी.

# बांग्लादेश का जलवा

बांग्लादेश अंडर-19 ने शुरुआत से ही आक्रामक खेल दिखाया. भारतीय टीम उनके दबाव में दिखी. बांग्लादेश की बॉलिंग कसी हुई थी. उनके फील्डर्स भी चुस्त नज़र आए. बांग्लादेशी स्पिनरों ने बल्लेबाजों को रन के लिए तरसा दिया. जबकि तेज गेंदबाजों ने एक तरफ से विकेट गिराने का सिलसिला जारी रखा.

अविषेक दास ने सबसे ज्यादा तीन विकेट लिए. भारतीय बल्लेबाज पूरी इनिंग्स में रन बनाने के लिए जूझते रहे और बांग्लादेश हावी होता चला गया. ये सिलसिला भारतीय पारी का अंत होने तक चला.

बांग्लादेश को पहला अंडर-19 वर्ल्ड कप जीतने के लिए 50 ओवरों में 178 रनों की दरकार है. अगर भारत को अपनी बादशाहत बरकरार रखनी है, इसका पूरा दारोमदार गेंदबाजों पर होगा. 

News Reporter
A team of independent journalists, "Basti Khabar is one of the Hindi news platforms of India which is not controlled by any individual / political/official. All the reports and news shown on the website are independent journalists' own reports and prosecutions. All the reporters of this news platform are independent of And fair journalism makes us even better. "

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: