28 C
Uttar Pradesh
Saturday, September 18, 2021

ई-रिक्शा चालकों से वसूली कर रहे बजरंग दल के 6 लोग गिरफ्तार, बंगाल में हिंसा पीड़ितों की मदद के नाम पर कर रहे थे वसूली

भारत

ई-रिक्शा चालकों से वसूली कर रहे बजरंग दल के 6 लोग गिरफ्तार/ फोटो - बस्ती खबर
ई-रिक्शा चालकों से वसूली कर रहे बजरंग दल के 6 लोग गिरफ्तार/ फोटो – बस्ती खबर

बांदा। उत्तर प्रदेश के अयोध्या में करोड़ों लोगों के श्रद्धा के केंद्र श्रीराम जन्मभूमि के जमीनी घोटाले का मामला अभी शांत नही हुआ कि अब राम भक्त हनुमान को अपना प्रमुख आराध्य बताने वाले संगठन ‘बजरंग दल’ द्वारा वसूली का ताजा मामला सामने आया है।

बांदा जिले में सोमवार को दोपहर केन नदी के भूरागढ़ घाट से बोरियों में बालू भरकर शहर में लाकर बेचने वाले ई-रिक्शा चालकों से केन नदी पुल के पास कुछ युवक जबरन 100-100 रुपये वसूल रहे थे। कई रिक्शा चालकों ने इसका विरोध किया तो सूचना पर पहुंची कोतवाली पुलिस ने आधा दर्जन युवकों को हिरासत में ले लिया और कोतवाली ले आई। हिरासत में लिए गए लोगों को बजरंग दल का बताया जा रहा है। जानकारी के मुताबिक देर रात तक यह सब कोतवाली में रखे गए थे। और पुलिस को इनके खिलाफ तहरीर का इंतजार था।

उधर, इन लोगों की गिरफ्तारी की सूचना इनके संगठन को होते ही देर शाम कोतवाली में बड़ी संख्या में बजरंग दल व अन्य संगठनों के कार्यकर्ताओं का जमघट लग गया और हिरासत में लिए गए युवकों को निर्दोष बताते हुए छोड़ने की मांग की। और नारे भी लगाए गए। देर रात तक यह सब जारी था।

बांदा कोतवाली का घेराव करते बजरंग दल संगठन के लोग / फोटो - रफ्तार
बांदा कोतवाली का घेराव करते बजरंग दल संगठन के लोग / फोटो – रफ्तार

मीडिया रेपोर्ट्स के अनुसार, पुलिस ने जब इन्हें पकड़ा तो संगठन के लोगों ने कोतवाली का घेराव कर लिया और मामले को रफा-दफा करने के लिए पुलिस पर दबाव डाला। आरोप है कि इन रिक्शा चालकों से 24 से अधिक युवकों ने भूरागढ़ पुल पर ही अवैध वसूली शुरू कर दी थी। यह लोग प्रति चक्कर हर रिक्शे वालों से 100 रुपये वसूल कर रहे थे। दोपहर तक करीब सौ से अधिक रिक्शा चालकों से यह लोग अवैध वसूली कर चुके थे। इसकी जानकारी मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस को देखकर कुछ युवक भाग गए। पुलिस के सामने वहां मौजूद रिक्शा चालक विनोद, मोहन, रत्नेश आदि ने बताया कि उनसे 100 रुपये प्रति चक्कर मांगा गया और हमने दो-दो चक्कर के रुपये भी दिए हैं।

इस पूरे मामले का विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा था, वायरल वीडियो में इनमें से कुछ युवक यह कहते मिले कि वह बजरंग दल के हैं और बंगाल में हिंसा पीड़ितों की सहायता के लिए दो लाख रुपये की मदद भेजनी है, उसी के लिए यह वसूली कर रहे हैं।

युवा कांग्रेस नेता केशव पाल भी मौके पर पहुंचे और अवैध वसूली का विरोध जताया। उधर, देर शाम कोतवाली प्रभारी भास्कर मिश्र ने बताया कि युवकों को कोतवाली में रखा गया है। शिकायतकर्ताओं की तलाश की जा रही है। किसी ने अभी कोई तहरीर नहीं दी है।

विश्व हिंदू परिषद के अध्यक्ष ने दी सफाई

इस मामले के बारे में विश्व हिंदू परिषद के जिला अध्यक्ष चंद्रमोहन बेदी ने बताया कि पश्चिम बंगाल में हर जिले से डेढ़ लाख रुपये राहत सामग्री के लिए भेजने को कहा गया है। बजरंग दल की नगर इकाई को डेढ़ लाख का टारगेट दिया गया है, जिसके लिए कार्यकर्ता चंदा वसूल रहे थे। कार्यकर्ता घर-घर से चंदा वसूल कर रहे हैं और रिक्शा चालकों से भी उन्होंने चंदा मांगा है। किन्ही शरारती तत्वों ने अवैध वसूली का मामला बताकर बवंडर मचा दिया है। उन्होंने रिक्शा चालकों से अवैध वसूली को सिरे से खारिज किया।

- Advertisement -

सबसे अधिक पढ़ी गई

- Advertisement -

ताजा खबरें