27.9 C
Uttar Pradesh
Sunday, October 2, 2022

बस्ती : सहायक सूचना निदेशक पर दर्ज हो सकता है मानहानि का मुकदमा, पत्रकार ने भेजा लीगल नोटिस

भारत

  • पत्रकार ने भेजी सहायक सूचना निदेशक को लीगल नोटिस
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जनसभा में प्रेस पास न जारी किए जाने का मामला

बस्ती। जिले के सहायक सूचना निदेशक प्रभाकर तिवारी की मुश्किलें बढ़ गई हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि सहायक सूचना निदेशक ने बिना तथ्य व बिना सबूत के वरिष्ठ पत्रकार के कार्य व आचारण पर टिप्पणी कर दी। पत्रकार राज प्रकाश की ओर से सहायक सूचना निदेशक को लीगल नोटिस भेजा जा चुका है। नोटिस के आधार पर बताया गया कि, यदि 15 दिन के भीतर सहायक सूचना निदेशक प्रभाकर तिवारी ने लिखित रूप से माफी नहीं मांगी, तो उनके विरूद्ध मानहानि का मुकदमा दर्ज होगा।

यह भी पढ़ें: बस्ती : पत्रकार के चरित्र पर टिप्पणी कर फंस गए सहायक सूचना निदेशक!

क्या है पूरा मामला?

पत्रकार द्वारा 11 अप्रैल, 2022 को सहायक सूचना निदेशक को लीगल नोटिस भेजा गया है, जिसमें उन्होने कहा है कि प्रधानमंत्री कार्यालय को भेजे गए शिकायती पत्र के बाद डीएम को दिए स्पष्टीकरण में सहायक सूचना निदेशक ने उन पर झूठे आरोप लगाए हैं। स्पष्टीकरण में पत्रकार राज प्रकाश को लेकर सहायक सूचना निदेशक ने लिखा है कि, “पत्रकार राज प्रकाश का कार्य व आचरण ठीक नहीं है, जिसके चलते इन्हें दैनिक अमर उजाला से निकाला गया है”। यह भी कहा गया कि, बीजेपी पदाधिकारियों के सुझाव व उच्चाधिकारियों के आदेश पर न्यूज पोर्टल व साप्ताहिक समाचार पत्रों को प्रधानमंत्री की जनसभा कवरेज संबंधी प्रेस पास नहीं जारी किया गया। इस बात की पुष्टि के लिए जब पत्रकार ने सांसद हरीश द्विवेदी व जिलाध्यक्ष भाजपा महेश शुक्ला से बात की तो उन्होने सहायक सूचना निदेशक की बातों का खंडन कर दिया।

15 दिन के बाद दर्ज होगा मानहानि का मुकदमा!

सहायक सूचना निदेशक को भेजे गए लीगल नोटिस में वरिष्ठ पत्रकार राज प्रकाश ने कहा है कि यदि 15 दिन के भीतर लिखित रूप से उनसे सहायक सूचना निदेशक ने क्षमा नहीं मांगा, तो वो सक्षम न्यायालय में मुकदमा दर्ज कराएंगे। जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी सहायक सूचना निदेशक की होगी।

Advertisement
- Advertisement -

सबसे अधिक पढ़ी गई

- Advertisement -

ताजा खबरें