Basti Education Crime Update: प्राइमरी का रिटायर्ड शिक्षक बन बैठा इंटर कॉलेज का प्रधानाचार्य

 Basti Education Crime Update:  प्राइमरी का रिटायर्ड शिक्षक बन बैठा इंटर कॉलेज का प्रधानाचार्य

सांकेतिक

बस्ती। माध्यमिक शिक्षा विभाग में एक बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है। केंद्रीय विद्यालय के प्राइमरी सेक्शन से अनिवार्य सेवानिवृत्ति लेने वाला शिक्षक सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालय का प्रधानाचार्य बन बैठा। जेडी की जांच में यह मामला सामने आया है।

मामला देशराज नारंग इंटर कॉलेज वाल्टरगंज का है। प्रधानाचार्य को सात दिन के अंदर स्पष्टीकरण देने के लिए जेडी ने नोटिस जारी की है। सात दिन के अंदर जवाब न देने पर आरोपी प्रधानाचार्य के खिलाफ विधिक कार्रवाई की जाएगी। आरोपी प्रधानाचार्य रमेश चंद्र सिंह का कहना है कि उनकी प्रथम पोस्टिंग रामपुर में टीजीटी भूगोल के पद पर हुई थी। वह प्रधानाचार्य के पद के अर्ह हैं। नियुक्ति के बाद प्रमाणपत्रों की जांच डीआईओएस कार्यालय द्वारा कराई जा चुकी है। उनके खिलाफ झूठी शिकायत की गई है। सभी आरोप निराधार हैं। जेडी की ओर से जारी नोटिस में कहा गया है कि सहायक आयुक्त केंद्रीय विद्यालय संगठन अलीगंज के द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार रमेश चंद्र सिंह की प्रथम नियुक्ति 26 अगस्त 1988 को प्राथमिक शिक्षक के पद पर हुई थी, तथा स्वैच्छिक सेवानिवृत्त तक वह इसी पद पर कार्यरत रहे।

इसी पद के वेतनमान के अनुसार पेंशन भुगतान आदेश भी जारी हुआ है। 2008 में इनका चयन माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड से प्रधानाचार्य पद पर हुआ तथा तैनाती देशराज नारंग इंटर कॉलेज वाल्टरगंज में हुई। नोटिस में कहा गया है कि इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य पद की निर्धारित अर्हता प्रशिक्षित परास्नातक के साथ उच्चतर कक्षाओं में कम से कम चार साल शिक्षण कार्य का अनुभव होना जरूरी है। श्री सिंह पर आरोप है कि इन्होंने कूटरचित तरीके से पीजीटी शिक्षक का फर्जी अनुभव प्रमाण पत्र माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड के समक्ष प्रस्तुत कर अनियमित तरीके से प्रधानाचार्य के पद पर नियुक्ति करा ली।

READ  Basti: साड़ी के फंदे से लटक कर विवाहिता की मौत

शिकायतकर्ता द्वारा आरटीआई से जानकारी मांगने पर मालूम हुआ है कि रमेशचंद्र सिंह केंद्रीय विद्यालय में प्राथमिक शिक्षक के पद पर तैनात थे तथा उसी पद से रिटायर होकर पेंशन हासिल कर रहे हैं। उन्हें अभिलेख सहित तलब किया गया था, लेकिन उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया है। नोटिस जारी कर एक सप्ताह का समय दिया गया है। इस संबंध में जेडी माध्यमिक बस्ती मंडल मनोज कुमार द्विवेदी ने बताया कि मामले की जांच कर उचित कार्रवाई कर दी जाएगी।

Related post