बस्ती: ख़बर से खिसियाए अधिकारी ने डराने के लिए पत्रकारों पर दर्ज कराया मुक़दमा

 बस्ती: ख़बर से खिसियाए अधिकारी ने डराने के लिए पत्रकारों पर दर्ज कराया मुक़दमा

बस्ती| गो आश्रय स्थलों की व्यवस्था उजागर करने वाले दो पत्रकारों के खिलाफ मुख्य पशु चिकित्साधिकारी अश्वनी कुमार तिवारी की तहरीर पर कोतवाली पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है। जिन दो पत्रकारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है उनमें से एक भानपुर व एक रूधौली प्रतिनिधि हैं।

मिली जानकारी के अनुसार पत्रकार हेमन्त पाण्डेय और धर्मेन्द्र कुमार भट्ट विगत दिनों परसा लंगड़ा, कमदा (सल्टौवा), मैलानी उर्फ हिंदूनगर, लोढ़वा (रामनगर) स्थित गो आश्रय स्थल पहुंचे। यहां उन्होने जो देखा उसे सीडीओ के वर्जन के साथ अक्षरशः प्रकाशित किया। महकमे में गो आश्रय स्थलों की लचर व्यवस्था और शासन से मिल रहे बंजट के दुरूपयोग की खबरें इससे पहने भी कई बार छपी हैं। बेजुबानों के हक पर डाका डालने की बात न तो नई है और न ही चैकाने वाली।

जनपद में बेजुआनों के इलाज की व्यवस्थायें लचर हैं। कहीं अस्पताल के लिये भवन नही है तो कहीं डाक्टर नही हैं। जहां दोनो हैं वहां डाक्टर पशुओं के इलाज के लिये जाते ही नहीं। नतीजा ये है कि पशुपालकों को निजी चिकित्सकों से इलाज करना पड़ता है, इसके लिये वे मोटी रकम भी चुकाते हैं। कई स्थानों से ऐसी शिकायत भी मिली है जहां सरकारी डाक्टर भी अच्छी खासी तनख्वाह पाते हुये भी सुविधा शुल्क लेकर पशुओं का इलाज करते हैं।

कई बार खबरें प्रकाशित करने के बावजूद मनमानी पर अंकुश नही लग पाया। पशु अस्पतालों की ही नही गो आश्रय स्थलों की व्यवस्थायें भी लचर हैं। कहीं पानी, चारा भूसा नही, तो कहीं मानक के अनुसार रखरखाव के इंतजाम नही हैं। गो आश्रय स्थलों पर तैनात कर्मचारी कहते हैं प्रति पशु 30 रूपया शासन से आता है, इतने में खाने का बंदोबस्त नही हो सकता।

READ  बस्ती में कम उम्र के कोरोना संक्रमित की हुयी मौत, यूपी में कोरोना संक्रमण से ये पहली मौत

बार – बार उच्चाधिकारियों के सज्ञान में लाया गया, इसके बावजूद व्यवस्था नहीं बदली। नाम न छापने की शर्त पर महकमे के कर्मचारी बताते हैं कि गो आश्रय स्थल के लिए शासन से मिलने वाले भारी भरकम रकम में हिस्सेदारी तय है। बची हुई रकम बेजुबानों के निवाले और इलाज पर खर्च होता है सच्चाई उजागर करने पर मीडिया को टारगेट करना आधिकारियों की दुर्भावना को रेखांकित करता है। सच्चाई पर परदा डालने के लिए मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी द्वारा उठाए गए इस कदम को लेकर जिले भर के पत्रकार आक्रोशित हैं।