Top

Bihar Chunav Result 2020: जीत कर भी 'हारेंगे' नीतीश, तेजस्वी बने सबसे बड़े नेता

बिहार विधानसभा चुनाव के नतीजे आ रहे हैं। रुझानों में एडीए को बढ़त है वहीं महागठबंधन बढ़त बनाने के बाद पिछड़ गया है। लेकिन इस चुनाव में एक बात जो निकलकर सामने आ है वो यह है कि अगर नीतीश कुमार जीतते हैं तो भी वो 'हारेंगे' क्योंकि तेजस्वी यादव बड़े नेता बनकर उभर कर सामने आएंगे।

Bihar Chunav Result 2020: जीत कर भी हारेंगे नीतीश, तेजस्वी बने सबसे बड़े नेता
X

पटना। बिहार विधानसभा चुनाव के लिए मंगलवार को वोटों की गिनती हुई। रुझानों में बढ़त बनाने के बाद महागठबंधन पिछड़ गया। विधानसभा चुनाव के लिए आरजेडी (RJD) ने कांग्रेस (Congress) को 70 सीटें दीं, अब जो ट्रेंड्स आ रहे हैं उन्हें तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) अपने घर में बैठकर देखते हुए सोच रहे होंगे कि उन्होंने क्या गलत किया। क्योंकि ट्रेंड को देखकर साफ अंदाजा लगाया जा सकता है, स्टाइक रेट देखें तो कांग्रेस अपनी बढ़त को सीट में बदलते हुए नहीं दिखाई दे रही है। इसका सीधा मतलब है कि जो जेडीयू (JDU) के साथ एनडीए (NDA) में हुआ है, वही हाल कांग्रेस के साथ हुआ है महागठबंधन में। शायद आरजेडी के वोटर्स अपने को कांग्रेस के साथ इतना एलाइन नहीं कर पाए जिसका खामियाजा कांग्रेस को उठाना पड़ रहा है। कांग्रेस 70 सीटों पर चुनाव लड़ रही थी और उनमें में से 19 सीटों पर उसे बढ़त हासिल हुई है। मुझे लगता है कि इसका खामियाजा भी तेजस्वी यादव को उठाना पड़ा है।

बिहार चुनाव में स्ट्रांग लीडर के रूप में उभर के सामने आए तेजस्वी यादव


बिहार की जो पॉलिटिक्स है वो मल्टीलेटरल से खत्म होकर बाइपोल होने जा रही है। हो सकता है कि अगला जो विधानसभा चुनाव हो उसमें भारतीय जनता पार्टी का सीधा मुकाबला जेडीयू से हो। इस तरह का ट्रेंड अभी दिख रहा है। रुझानों में कई ऐसी सीटें है जहां सौ, 2 सौ, पांच सौ का ही फर्क है। लेकिन ये फर्क उन सीटों पर ज्यादा है जहां महागठबंधन आगे है। मतलब ऐसी सीटें बहुत कम हैं जहां ये दिखे कि एनडीए की टेली घट जाएगी। तेजस्वी के लिए यह एक चिंता का विषय है। लेकिन चुनाव को लेकर दो निष्कर्ष सामने हैं। पहला यह कि तेजस्वी यादव बिहार चुनाव में स्ट्रांग लीडर के रूप में उभर के सामने आए हैं, मैं सिर्फ इस चुनाव की बात कर रहा हूं। अगर सीट वाइज़ देखा जाए, कद के हिसाब से देखें तो निश्चित तौर पर नीतीश कुमार एक जीते हुए गठबंधन के नेता होंगे, उनको शायद एनडीए के विधायक दल का नेता भी चुना जाए और वो सीएम भी बन जाएं लेकिन बड़े नेता के तौर पर मौजूदगी दर्ज कराई है तेजस्वी यादव ने। कहेंगे कैसे..

इस चुनाव के बाद पॉलिटिक्स में 'पोस्ट ग्रेजुएट' हो गए तेजस्वी


आज से पांच साल पहले जब तेजस्वी यादव को लालू यादव ने एक तरीके से प्रोजेक्ट करना शुरू किया था, तब एक रैली हुई थी अगस्त 2017 में पटना के गांधी मैदान में, तब वहां पर सीधे तौर पर तेजस्वी ने शंखनाद किया। उस रैली में तेजस्वी यादव में जो एक पॉलिटिकल विट होता है, तंज करना होता है, एक अटैकिंग मोड होता है, उसकी उनमें कहीं न कहीं कमी थी, या यूं कहें वो पॉलिटिक्स में अंडर ग्रेजुएट थे। आज इस चुनाव के बाद हमें ये पता चल रहा है कि वो पोस्ट ग्रेजुएट हो गए हैं। तेजस्वी के लिए अच्छी बात यह है कि वो अभी मात्र 31 साल के ही हैं। उन्होंने कल ही अपना जन्मदिन मनाया है। आने वाले पांच साल के बाद, इस हार के बावजूद वो एक मजूबत स्थिति में होंगे।

पिछले 40 दिन में तेजस्वी ने अपनी तरफ मोड़ा हवा का रुख


जब चुनाव की घोषणा हो रही थी तब ऐसी स्थिति थी कि तेजस्वी यादव, राहुल गांधी चुनाव आयोग के पास गए और कहा कि अभी कोरोना चल रहा है तो इलेक्शन मत कराओ, बाद में करा लेना जब कोरोना ठीक हो जाए। निश्चित तौर पर जो अपने को कमजोर मानता है, वो इस तरह की बातें करता है। एनडीए ने कभी नहीं कहा कि हम चुनाव से भाग रहे हैं। लेकिन पिछले 40 दिन में तेजस्वी यादव ने किस तरह से हवा का रुख अपनी तरफ मोड़ा, नया एजेंडा सामने रखा, यूथ से कनेक्ट करने की कोशिश की, बेरोजगारी को बड़ा मुद्दा बनाया, जातिवाद के दलदल में फंसी बिहार की राजनीति जो एजेंडा विहीन राजनीति है, उसमें एजेंडी की राजनीति जिसकी कल्पना लालू यादव की पार्टी से नहीं करते थे, उसकी शुरुआत तेजस्वी यादव ने की। इसके लिए तेजस्वी यादव ने किसको छाया में रखा- अपने पिता को, मां को, बहन को अपने भाई को। तेजस्वी ने बड़ी रणनीति बनाई- आरजेडी के किसी पोस्टर में लालू यादव, राबड़ी देवी और उनकी बहन नहीं दिखी। जब ये नहीं दिखते थे तो एनडीए के नेताओं को लगता था कि अगर ये होते तो ज्यादा अटैक करने का उनको मौका मिलता। लेकिन तेजस्वी यादव ने जिस तरीके से अपने रणनीतिकारों की टोली बनाई और काम किया, आज की तारीख में इसके लिए तेजस्वी यादव को शाबाशी देनी होगी।

उनका 'जंगलराज' से कोई लेना देना नहीं है, यह मैसेज देने में कामयाब रहे तेजस्वी


तेजस्वी यादव यह मैसेज देने में पूरी तरह से कामयाब रहे कि लालू के कथित 'जंगलराज' से उनकी राजनीति से कोई लेना देना नहीं है। वो 31 साल के बिहार के नौजवान है, चाहे वो नौवीं पास हों या फेल हों लेकिन उनके पास एक विजन है एक विजन है कि यहां हम रोजगार पैदा करेंगे, यहां हम इंडस्ट्री लाएंगे। दूसरी बात सामाजिक न्याय की राजनीति जो लालू यादव ने शुरू की और उसे घिस दिया क्योंकि उसके आगे वो नहीं निकल सके। दबे कुचले, गरीबगुर्बे लोग बूथ तक पहुंचे, उनमें आत्मसम्मान लौटा, इसके लिए लालू यादव की तारीफ करनी पड़ेगी। लालू यादव इसके लिए जाना जाता है, वो एक ऐसे समाजवादी नेता रहे। लेकिन उन्होंने क्या किया, बिहार को जातीय राजनीति और हिंसा में झकजोर कर रख दिया। तेजस्वी ने क्या किया, उसकी आंच उनतक न पहुंचे इसके लिए तेजस्वी यादव ने कई बार जनता से माफी मांगी। और यह एक बहुत बड़ा जेस्चर था। जिसका नतीजा इस चुनाव के नतीजों में भी दिखाई दे रहा है। यह एक बड़ी उपलब्धि मानी जाएगी तेजस्वी यादव जैसे नेता के लिए। अब आने वाले पांच साल में सकारात्मक भूमिका दायित्व निभाना होगा। अगर हम इस ट्रेंड को रिजल्ट माने तो हम तेजस्वी को एक जिम्मेदार विपक्ष की भूमिका में देखेंगे। जो काम विपक्ष में रह कर सुशील मोदी ने किया और लालू यादव को 90 के दशक से लेकर नीतीश कुमार के महागठबंधन में जाने तक, तबतक सुशील मोदी ने नाको चने चबबाया चाहे किसी की सरकार रही हो। सुशील मोदी ने एक से बढ़कर एक खुलासे किए। जिनपर संज्ञान भी लिया गया और दोषियों पर कार्रवाई भी हुई। मैं नहीं कहूंगा कि सुशील मोदी तेजस्वी यादव की भूमिका में रहें क्योंकि उस भूमिका के लिए फिर तो कुछ अलग ही, जैसे कहते हैं कि धुंआ भी चलना चाहिए, ऐसा नहीं है। नीतीश कुमार की छवि बेदाग रही है। लेकिन सरकार से जो भी मुद्दे उन्होंने उठाए हैं उन मुद्दों को विपक्ष में बैठकर उठाना एक थकान वाला काम होता है।

आलोचनाओं को पीछे छोड़ तेजस्वी ने लड़ी ये लड़ाई


चुनाव से पहले तेजस्वी यादव कोरोना के समय बिहार से लगातार गायब रहे, इसकी बहुत आलोचना हुई। लोग कहते थे कि उन्हें बिहार में रहना चाहिए, जमीन पर नहीं दिखे। इसकी चर्चा होती थी कि आखिर तेजस्वी इतना वाकओवर क्यों दे रहे हैं। तब उनके घर में पारिवारिक कलह भी चल रही थी। उनके भाई तेजप्रताप और उनकी पत्नी ऐश्वर्या के बीच केस चल रहा है। मीसा भारती को लेकर भी चर्चाएं कि वो राजनीति में अपनी कद बढ़ाना चाहती हैं। इस सबके बीच तेजस्वी यादव दिल्ली में कैंप करते रहे, कई बार वो बाहर भी गए। एक बार ओनएयर हवाई जहाज के अंदर जो उन्होंने पिछला बर्थडे मनाया, उसे लेकर कहा गया देखो- कैसे एक गरीब का बेटा एयरप्लेन में बैठकर बर्थडे केक काट रहा है। इन सब चीजों को पीछे छोड़ते हुए तेजस्वी यादव ने यह लड़ाई लड़ी। उनका बैकग्राउंड, इस लड़ाई से पहले बहुत कमजोर था। अगर हम कहें कि इस जुलाई से पहले या अगस्त तक की भी चर्चा कर लें तो कोई आरजेडी का नाम लेवा नहीं था।

बिहार चुनाव में तेजस्वी यादव ने की पॉजिटिव पॉलिटिक्स


इलेक्शन कमीशन ने जब चुनाव की डेट की घोषणा की तब भी हमें यह लग रहा था कि यह एक तरफा चुनाव है, इसमें आरजेडी के लिए कहीं कोई जगह नहीं है। एनडीए 200 के आसपास सीटें ले आएगा। लेकिन इसके बाद जिस तरीके से तेजस्वी यादव ने पॉजिटिव पॉलिटिक्स की, उन्होंने ये नहीं कहा कि मैं ये कर दूंगा या वो कर दूंगा या इस जाति को यह कर दूंगा। उन्होंने 10 लाख नौकरियों का वादा किया। हां ये जरूर है कि उनके तरीके और उस पर क्या होगा, वो इसे कैसे करेंगे, इसे लेकर जेडीयू और भारतीय जनता पार्टी ने उनपर प्रहार किए। लेकिन हुआ क्या, एजेंडा सेट करने के कारण शायद पिछले 10 वर्षों में या 2005 के चुनाव को छोड़ दें क्योंकि ये कथित 'जंगलराज' के खिलाफ जनादेश था। तो पॉलिटिक्स में नेरेटिव सेट करने वाला लालू का बेटा तेजस्वी यादव को फॉलो करने वाली आरजेडी हो या सत्तारूढ़ जेडीयू के नीतीश कुमार और एक हद तक हमारे प्रधानमंत्री के भाषणों में नरेंद्र मोदी ने जरूर केंद्र सरकार की योजना का जिक्र करने में बीता। लेकिन नीतीश कुमार और उनके बाकी साथियों का समय इसी में बीता वो यही बताते रहें कि हम नौकरियां ज्यादा देंगे हम स्किल डब्लप करेंगे, वो 10 लाख नौकरियां कहां से देंगे। वो सभी तेजस्वी के एजेंडे के पीछे पीछे चले।

तेजस्वी के '10 लाख नौकरी' के चलते नीतीश ने बदला चेंज किया अपना एजेंडा!


जेडीयू ने यह देखा कि वो अपने नीतीश कुमार के इस पांच साल के कार्यकाल को जनता के बीच अच्छे से नहीं पहुंचा पा रहे हैं, क्राइम और करप्शन के मुद्दे पर घिरते जा रहे हैं तो उन्होंने एनडीए में अपना वाकायदा एजेंडा चेंज किया। जेडीयू ने तय किया कि अब हम लालू-राबड़ी के उस 15 साल के कार्यकाल की जनता को याद दिलाते हैं और डराते हैं, जिसके कारण नीतीश कुमार पहली बार सत्ता में आए थे। अब सोचिए जो मुख्यमंत्री चौथी बार खुलकर बिमुख हो रहा हो, वह पहली बार के एजेंडे 2005 के एजेंडे पर चुनाव लड़े, यह कहीं न कहीं नीतीश कुमार की बड़ी कमजोरी साबित हुई। वो यह कहते रहे कि आरजेडी जीती तो 'जंगलराज' लौटेगा फिर आपकी बहू-बेटियां कैसे निकलेंगी। ये जो नीतीश का नेगेटिव कैंपने था, इसके कारण कई बार वो अपना आपा खो बैठे। जब युवाओं ने जो 65 लाख यूथ जो पहली वोट देने वाले थे, उनमें से कुछ लोगों ने कांटी मुजफ्फरपुर में उनका विरोध किया, स्लोगन लहराए, जब उनके ऊपर प्याज फेंका गया, प्रतीकात्मक भी मानिये तब भी यह गलत था क्योंकि जब मुख्यमंत्री भाषण दे रहे हों तब इस तरह की हरकत गलत है, यह विरोध प्याज की महंगाई को लेकर था।

नीतीश कुमार के खिलाफ लोगों में था गुस्सा


तब नीतीश कुमार का आपा खो देना और कहना कि अपने मां-बाप से जाकर पूछों, उस समय क्या होता था, उस समय स्कूलों की हालत क्या होती थी। जबकि हमने देखा कि बिहार में स्कूलों की व्यवस्था इतनी अच्छी और बिल्डिंग इतनी अच्छी उसकी सब तारीफ लेकिन पढ़ाई को लेकर हमने हर जगह सुना कि 30 साल के लिए हमारी पीढ़ी बर्बाद हो गई। कई बुजुर्गों ने कहा कि हम अपने पोते-पोतियों को स्कूल भेजकर क्या करेंगे। जो शिक्षामित्र हैं, जो नियोजक शिक्षक रखे गए हैं, वो नेशनल लेबल के सर्वे होते हैं उनमें 8वीं कक्षा से लेकर दूसरी कक्षा तक के सवाल हल नहीं कर पा रहे हैं। खासकर इंग्लिश और मैथेमेटिक्स में, जिसको लेकर बिहार के लड़के बहुत जागरूक रहे हैं। इंजीनियरिंग की परीक्षा में, मेडिकल की परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन किया है, ऐसे में यह सोचने वाली बात है कि ऐसा क्यों हुआ। इसके लेकर नीतीश कुमार के खिलाफ गुस्सा था।

नीतीश की शराबबंदी से लगभग 100 गुना बढ़ गई थाने की कमाई!


नीतीश कुमार ने शराबबंदी लागू की। नीतीश कुमार ने महागठबंधन की सरकार में रहते हुए अप्रैल 2016 में शराबबंदी लागू की। नीतीश कुमार का बराबर यह कहना होता है कि "वो एक मीटिंग कर रहे थे तब पीछे बैठी हुई एक दीदी ने कहा कि शराब बंद कर दो, तभी मैंने तय किया शराब बंद कर दूंगा।" अगर देखें तो नीतीश कुमार का यह फैसला सामाजिक स्तर पर बहुत अच्छा है। महिलाओं ने इसको हाथोंहाथ लिया लेकिन उसका इम्पिमेंट का क्या हुआ। अगर आज देख लें तो साढ़े तीन लाख लोग शुरू से लेकर अबतक जेल गए, जिनमें से कई लोगों को जमानत मिल गई। लेकिन वो प्रक्रिया जारी है। आप उसके लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट बना रहे हैं। जब हमारी छोटी अदालतों में लाखों केस, जिनमें घरेलू विवाद से लेकर जमीन विवाद, मर्डर केस, लूट आदि के मामलों के दवाब से दबी जा रही हैं, ऐसे में आप सिर्फ शराबबंदी के केस की उनमें सुनवाई हो, जेल कैदियों से भरी जा रही हों, तो आप समझ सकते हैं क्या हालत होगी। मांझी जो लौटकर एनडीए में आए हैं, जब वो एनडीए छोड़कर गए थे तब उन्होंने कहा कि यह जो शराबबंदी है, उससे सिर्फ मूसहर, पासवान समाज जैसे निचली जातियों पर असर पड़ रहा है क्योंकि वो सप्लायर बनकर रह गए हैं। और जो नहीं बन पाए वो उसके कारोबार में लग गए। कई नेताओं की मिलीभगत शुरू हो गई। बिहार के जो थाने थे वहां क्या शुरू हुआ, वहां शराब को लेकर एक कैंपेन शुरू हुआ और आज तीन साढ़े तीन साल बाद थाने के जो सारे दारोगा हैं, उनका एक मात्र एक ही लक्ष्य है कि कहां शराब की खेप आई। अंदरखाने की बात करें तो थाने की कमाई लगभग 100 गुना बढ़ गई है।

सुशासन बाबू की छवि पर लौटने का नीतीश के पास मौका


इस बात से आप समझ सकते हैं कि जब पूरा पुलिस महकमा पूरी तरह नीतीश कुमार की शराबबंदी को लागू कराने में जुटा रहेगा तो दूसरे अपराधों का क्या होगा। नीतीश ने कहा कि हम थाने में दो ब्रांच बनाएंगे। एक दारोगा शराबबंदी का जांच करेगा तो दूसरा लॉ एंड ऑर्डर देखेगा। लेकिन आज की डेट में ऐसा किसी थाने में लागू हो नहीं हो पाया है। आज आप देखें तो एक ही दारोगा जांच भी करता है और लॉ एंड ऑर्डर भी देख रहा है। वो चुनाव भी कराता है और साथ में इनवेस्टिगेशन भी करता है। मुझे लगता है कि नीतीश कुमार के पास यह एक मौका होगा कि नीतीश कुमार ने जो सुशासन बाबू की छवि बनाई थी उसपर उनको लौटना पड़ेगा।











Basti Khabar

Basti Khabar

Basti Khabar Pvt. Ltd. Desk


Next Story
Share it