BJP नेता ने महिला की तुलना ‘कुतिया’ से की और स्वरा भास्कर से थेथरई करने लगे

BJP नेता ने महिला की तुलना 'कुतिया' से की और स्वरा भास्कर से थेथरई करने लगे - Basti Khabar

गोपाल कृष्ण अग्रवाल. बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं. ट्विटर पर एक लेखिका की पोस्ट पर उन्होंने ऐसा कमेंट कर दिया जिस पर बवाल हो गया. उन्होंने अप्रत्यक्ष तरीके से लेखिका की तुलना ‘कुतिया’ से कर दी. इसके बाद अपने बयान पर ‘अडिग’ रहते हुए वो ऐक्ट्रेस स्वरा भास्कर से थेथरई पर उतर आए. पिछले दिनों गुजरात में स्वामी कृष्णस्वरूप दास ने ‘ज्ञान’ दिया था कि अगर महिलाएं पीरियड्स के दौरान खाना बनाती हैं तो अगले जन्म वो ‘कुतिया’ बनेंगी.

कृष्णस्वरूप दास के इस बयान की आलोचना करते हुए लेखिका शुनाली खुल्लर श्रॉफ ने ट्विटर पर एक पोस्ट किया. उन्होंने व्यंग्य करते हुए दो पेट डॉग्स की फोटो शेयर की और लिखा,

ये दो महिलाओं की फोटो है जो कुतिया बन गईं क्योंकि उन्होंने पिछले जन्म में अपने पतियों के लिए पीरियड्स के दौरान खाना बनाया था. आप उनकी बॉडी लैंग्वेज देखकर बता सकते हैं कि उन्हें इसका दु:ख है.

इस पर बीजेपी नेता गोपाल कृष्ण अग्रवाल ने कमेंट किया जिसका मतलब निकलता है,

इनमें से आप खुद को किससे पहचानती हैं?

इसे लेकर ट्विटरनिवासियों ने उन्हें घेर लिया. ऐक्ट्रेस स्वरा भास्कर ने कहा,

‘ये बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं, जो एक महिला को पब्लिक प्लेटफॉर्म पर गाली दे रहे हैं. अग्रवाल जी आपको शर्म आनी चाहिए. खुद का तो क्या ही लिहाज करोगे, कम से कम जिस भगवान के नाम पर मां-बाप ने आपका नाम रखा था, उनका ही लिहाज कर लो. #घटिया.’

अपनी बात पर कायम रहते हुए गोपाल कृष्ण अग्रवाल ने और रायता फैला दिया. उन्होंने अपने धर्म को बीच में लाते हुए कहा,

“ये शुनाली श्रॉफ के उस व्यर्थ दावे पर जवाब था जिसमें उन्होंने कहा कि ये बिल्लियां बन गईं क्योंकि
उन्होंने पीरियड्स के दौरान अपने पतियों के लिए खाना बनाया. मैं कॉन्टेक्स्ट से अलग कुछ कोट करना और हिंदू धर्म को बदनाम करना सही नहीं मानता. मैं एक प्राउड हिंदू हूं.”

जवाब के नाम पर वो यहीं नहीं रुके और एक के बाद एक कई ट्वीट कर डाले. उन्होंने लिखा, ‘यस्य नार्यस्तु पूज्यन्ते, रमन्ते तत्र देवता’ जहां नारी का सम्मान होता है, वहां देवता निवास करते हैं. लेकिन शुनाली श्रॉफ, स्वरा भास्कर इसे कभी नहीं कोट करेंगी. लेकिन हिंदू धर्म में आज जिन बातों का बहुत कम महत्व रह गया है उसे उठा लेंगी और गाली देंगी. हिन्दुत्व विचार की महानता को छोड़कर रूढ़ीवाद को घसीटते रहो बस.’

एक और ट्वीट में उन्होंने ‘हिदायत’ दे डाली. लिखा, ‘लड़की हैं तो यह नहीं आप कुछ भी बोलते रहें और हम आपकी बकवास मूक दर्शक की तरह सुनते रहें. महिला होने का गर्व है तो उसकी शालीनता का भी सम्मान रखिए मेमसाहेब.’

पत्रकार रोहिणी सिंह ने लिखा,

“बीजेपी के एक प्रवक्ता जो सोचते हैं कि महिलाओं को कुतिया कहना ठीक है सिर्फ इसलिए कि वो पीरियड्स से जुड़े टैबू के ख़िलाफ़ बोलती हैं.”

वहीं, दूसरे कई लोगों ने भी गोपाल कृष्ण अग्रवाल की ट्विटर पर आलोचना की.

READ  गांधीनगर: जिस सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार कभी नहीं हारा, उस सीट का क्या हुआ?
Social profiles