35 C
Uttar Pradesh
Monday, September 20, 2021

जिले की जलवायु में उपजा काला नमक चावल की खुशबू बढ़ाएगा किसानों की आमदनी, उपज खरीद के लिए आगे आया बस्ती कृषक उत्पादक संगठन

भारत

602a1b28d18a92dc5ea95bba277018a1?s=120&d=mm&r=g
Rajan Chaudhary
Rajan Chaudhary is a freelance journalist from India. Rajan Chaudhary, who hails from Basti district of Uttar Pradesh’s largest populous state, and writes for various media organizations, mainly compiles news on various issues including youth, employment, women, health, society, environment, technology. Rajan Chaudhary is also the founder of Basti Khabar Private Limited Media Group.

सिद्धार्थ एफपीओ को अर्न्स्ट एंड यंग एलएलपी नाम की संस्था मार्केटिंग और बिजनेश प्लान में कर रही है सहयोग. 

बस्ती जिले में उपजे खुशबूदार स्वास्थ्यवर्धक काला नमक धान के पौधे / फोटो - बृहस्पति कुमार पाण्डेय
बस्ती जिले में उपजे खुशबूदार स्वास्थ्यवर्धक काला नमक धान के पौधे / फोटो – बृहस्पति कुमार पाण्डेय

हाईलाईट्स

  • इस साल लगभग एक हजार हेक्टेयर में हो रही है कालानमक की खेती।  
  • एफपीओ को सीधे उपज बेचने से किसानों को बिचौलियों से मिलेगा छुटकारा।
  • कालानमक की खेती से सुधरेगी की किसानों की हालत मिलेगी पहचान।  
  • कृषि विज्ञान केंद्र बस्ती की देखरेख में किसान कर रहें हैं कालानमक धान की खेती।  
  • केवीके बस्ती नें किसानों में वितरित किया है कालानमक का उन्नत बीज।

बस्ती। जनपद के प्रगतिशील किसानों द्वारा बनाया गया एफपीओ इस बार जनपद के किसानों से कृषि विज्ञान केंद्र बस्ती के जरिये उपलब्ध कराये गए सुगन्धित धान कालानमक नई वैराइटी की व्यापक लेवल पर खेती करवा रहा है. जनपद के किसानों नें सिद्धार्थ फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी के नाम से बीते साल एक एफपीओ बनाया था जो इस साल कृषि विज्ञान केंद्र बस्ती के मार्गदर्शन में लगभग पांच सौ हेक्टेयर व खुद की निगरानी में पांच सौ हेक्टेयर रकबे में कालानमक धान की खेती करवा रहा है.

एफपीओ के डायरेक्टर बृहस्पति पाण्डेय नें बताया कि, सिद्धार्थ एफपीसी कृषि विज्ञान केंद्र के मार्गदर्शन किसानों के परस्पर सहयोग से काम करते हुए काला नमक चावल की खुशबू को दुनिया के विभिन्न हिस्सों तक पहुंचाएंगे. इससे किसानों बिचौलियों से मुक्ति मिलेगी और उनके जिंदगी में बदलाव आएगा.

उन्होंने आगे बताया कि, इस साल जनपद में काला नमक धान की बुवाई काफी बढ़ गई और इस काला नमक धान की खेती का क्षेत्रफल बढ़कर लगभग एक हजार हेक्टेयर हो गया है. 

कंपनी के निदेशक राममूर्ति मिश्र नें बताया कि, सिद्धार्थ एफपीओ द्वारा किसानों को उनके उपज का वाजिब मूल्य दिया जायेगा और उनसे धान की खरीददारी के बाद कालानमक चावल इसकी मार्केटिंग और ब्रांडिंग का काम करेगा.

उन्होंने बताया की इस साल कृषि विज्ञान केंद्र बस्ती द्वारा जनपद के किसानों में काफी मात्रा में सुगन्धित कालानमक की नई और उन्नत प्रजाति का बीज उलब्ध कराया गया है। केंद्र के वैज्ञानिक अपने देखरेख में फसल तैयार करा रहें हैं और किसानों को जरुरी तकनीकी और व्यावहारिक ज्ञान दे रहें हैं. इससे इस साल अच्छी पैदावार होने की संभावना है.

बस्ती जिले में काला नमक धान की खेती/ फोटो - बृहस्पति कुमार पाण्डेय
बस्ती जिले में काला नमक धान की खेती/ फोटो – बृहस्पति कुमार पाण्डेय

वहीं सिद्धार्थ एफपीओ को अर्न्स्ट एंड यंग एलएलपी नाम की संस्था मार्केटिंग और बिजनेश प्लान में सहयोग कर रही है. उन्होंने बताया की उनका प्रयास है की एफपीओ से जुड़े सभी किसानों की आय बढ़े और उसके लिए सभी जरुरी प्रयास किये जा रहें हैं। 

कंपनी के निदेशक विजेंद्र बहादुर पाल बताते हैं कि, बीते साल भी सिद्धार्थ एफपीओ द्वारा कालानमक की खेती करने वाले किसानों से वाजिब दाम पर खरीददारी की गई थी और बस्ती के अलावा आस-पास के दूसरे जनपदों व प्रदेश के बाहर भी कालानमक को भेजा गया था. बस्ती जनपद के आबोहवा में कालानमक में काफी खुशबू पाई जा रही है, इसलिए डिमांड बढ़ा है. जिसको देखते हुए इस बार ज्यादा क्षेत्रफल में खेती की गई है.

- Advertisement -

सबसे अधिक पढ़ी गई

1 COMMENT

  1. […] डॉ. एस.एन. सिंह नें कहा कि, किसान एफपीओ (फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी) से जुड़कर अपनी आमदनी में काफी इजाफा कर […]

Comments are closed.

- Advertisement -

ताजा खबरें