Top

लड़के ने कुछ ऐसा किया कि गूगल खाली सड़क पर ट्रैफिक जाम दिखाने लगा

डेटा ब्रीच की ख़बरें आती रहती हैं. लोगों के गूगल अकाउंट और डेटा चोरी जैसी चीजें भी होती रहती हैं. लेकिन कभी सोचा है कि गूगल मैप्स को हैक किया जा सकता है? ऐसा हुआ है. स्पेन के एक बंदे ने एक ट्रिक से गूगल मैप्स को धोखा दिया है. आर्टिस्ट सिमॉन वेकर्ट ने 99 स्मार्टफोन के जरिए ऐसा किया है. बिना किसी सॉफ्टवेयर के.

सिमॉन वेकर्ट ने क्या किया?
सिमॉन ने 99 स्मार्टफोन जमा किए. इन सभी स्मार्टफोन को एक कार्ट में रखा. सभी स्मार्टफोन में गूगल मैप्स को ऑन किया और खाली सड़क पर चलने लगे. मज़ाक के तौर पर की गई इस हैकिंग के बाद गूगल मैप्स बिल्कुल क्लियर रूट को भी हेवी ट्रैफिक वाला बता रहा था. गूगल अब इस खाली रोड को हेवी ट्रैफिक वाला बताने लगा. इसके बाद गूगल ने उस रास्ते से जाने वाले लोगों को री-रूट कर दिया. गूगल को इन सारे स्मार्टफोन की लोकेशन एक ही जगह दिखी और मैप्स पर यह दिखाने लगा कि वहां से कई लोग गुजर रहे हैं जिसका मतलब है कि वहां का ट्रैफिक बढ़ गया है.

सिमॉन का ट्वीट देखिए.

गूगल मैप्स कैसे काम करता है?
यूजर्स को ट्रैफिक की सही जानकारी देने के लिए गूगल स्लो मूविंग या हेवी ट्रैफिक का डेटा लेता है. इसके लिए संबंधित क्षेत्र में यात्रा कर रहे उन यूजर्स के मोबाइल को एक्सेस करता है जो गूगल मैप्स का इस्तेमाल कर रहे होते हैं. सिमॉन ने ट्रैफिक बताने वाले गूगल मैप्स के इसी प्रोसेस के साथ खेल किया.

भारत में गूगल मैप्स ट्रैफिक बताने के लिए लाल, नीले और पीले रंग का इस्तेमाल करता है. लाल मतलब तगड़ा जाम. ठीक-ठाक मूवमेंट के लिए पीला रंग और एकदम क्लियर रोड के लिए नीला रंग दिखाता है. गूगल मैप्स कई बार री-रूट कर देता है ताकि यूजर्स जल्दी और बेस्ट रूट से अपनी मंज़िल तक पहुंच सकें.

Next Story
Share it