Top

कोरोना वायरस: चीन के फंसे पाकिस्तानियों की मदद के लिए आगे आया भारत

भारत कोरोना वायरस से प्रभावित चीन के वुहान से पाकिस्तानी स्टूडेंट्स को लाने के लिए तैयार है, अगर पाकिस्तान इस तरह का कोई अनुरोध करता है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने 6 फरवरी को ये बात कही. हालांकि उन्होंने ये भी साफ कर दिया कि पाकिस्तान सरकार की तरफ से अभी इस तरह की कोई अपील नहीं की गई है.

TOI की रिपोर्ट के मुताबिक, कुछ पत्रकारों ने सवाल किया कि क्या भारत पाकिस्तानी स्टूडेंट्स की मदद करने को तैयार है? इस पर रवीश कुमार ने कहा,

‘अभी तक इस तरह की कोई अपील पाकिस्तान की सरकार की तरफ से नहीं की गई है. लेकिन अगर ऐसी स्थिति बनती है, तो फिर हम उपलब्ध संसाधनों को ध्यान में रखते हुए इस पर काम कर सकते हैं.’

पाकिस्तान अपने स्टूडेंट्स को वापस नहीं ला रहा

दरअसल, भारत सरकार वुहान में फंसे भारतीय स्टूडेंट्स को वापस लाने का काम कर रही है. अभी तक करीब 647 भारतीयों को वहां से वापस लाया जा चुका है. इसके अलावा सरकार अब भी इस कोशिश में है कि बाकी भारतीयों को भी किसी तरह वुहान से लाया जा सके. वहीं पाकिस्तान की सरकार ने वुहान में फंसे पाकिस्तानी स्टूडेंट्स को वापस लाने से इनकार कर दिया है. कहा है कि वो चीन के साथ ‘सॉलिडैरिटी’ दिखाने के मकसद से अपने स्टूडेंट्स को वापस लाने का ऑपरेशन नहीं चलाएगी. ये भी कहा है कि उन्हें पूरा विश्वास है कि चीन इस मामले को हैंडल कर लेगा.

पाकिस्तान की तरफ से ये बयान आने के बाद वुहान में फंसे कुछ पाकिस्तानी स्टूडेंट्स का वीडियो भी सामने आया था. इसमें वो भारत सरकार की तारीफ कर रहे थे और पाकिस्तान सरकार पर गुस्सा दिखा रहे थे. एक वीडियो में स्टूडेंट ये कहते सुनाई दे रहा है कि पाकिस्तान की सरकार को अपने लोगों की कोई फिक्र नहीं है.

इसी मुद्दे को लेकर रवीश कुमार से सवाल किया गया था.

Next Story
Share it