Top

भारत में कोरोनावायरस संक्रमण के मामले सात हजार के पार, लॉकडाउन बढ़ने की संभावना

कोरोनावायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिये लागू किये गये राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन को और दो हफ्ते के लिये बढ़ाये जाने के संकेतों के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने 21 दिनों के लॉकडाउन पर राज्य सरकारों से उनके सुझाव मांगे हैं.

नई दिल्ली: देश में कोरोनावायरस संक्रमण के मामले शुक्रवार को 7,000 के आंकड़े को पार कर गये और इस महामारी से अब तक कुल 236 लोगों की मौत हुई है. वहीं, हालात का जायजा लेने के लिये मुख्यमंत्रियों के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बैठक से एक दिन पहले 30 अप्रैल तक लॉकडाउन बढ़ाने वाला पंजाब दूसरा राज्य हो गया.

कोरोनावायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिये लागू किये गये राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन को और दो हफ्ते के लिये बढ़ाये जाने के संकेतों के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने 21 दिनों के लॉकडाउन पर राज्य सरकारों से उनके सुझाव मांगे हैं. लॉकडाउन का आज 17वां दिन था.

अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि लोगों और सेवाओं की क्या और अधिक श्रेणियों को छूट दिये जाने की जरूरत है, इस बारे में भी सुझाव मांगे गये हैं.

इस बीच, स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि अभी तक भारत में सामुदायिक स्तर पर किसी तरह का संक्रमण नहीं हो रहा है, जबकि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने भी देश को ‘क्लस्टर केसेज’ नाम की श्रेणी में रखा है, यह श्रेणी सामुदायिक स्तर पर संक्रमण की श्रेणी से नीचे आता है और इस वर्गीकरण का इस्तेमाल यह वैश्विक संस्था करती है.

महाराष्ट्र, तमिलनाडु, जम्मू कश्मीर और उत्तर प्रदेश सहित कई राज्यों ने संक्रमण के मामलों में वृद्धि दर्ज की है.

हालांकि, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने की दर बृहस्पतिवार को सिर्फ 0.2 थी, जबकि 16,000 से अधिक नमूनों की जांच की गई थी. अब तक भारत में 1.5 लाख नमूनों की जांच हुई है.

विभिन्न राज्यों द्वारा दर्ज किये गये एवं वहां से शाम सात बजे तक प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक देश में इस वायरस से अब तक 7,049 लोग संक्रमित हुए हैं और कम से कम 236 लोगों की मौत हुई है. जबकि 650 लोग इलाज के बाद स्वस्थ हो गये और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई.

हालांकि, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के शाम के अपडेट के मुताबिक अब तक 6,761 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है और 206 लोगों की मौत हुई है.

महाराष्ट्र में 1,385 मामले दर्ज किये गये हैं जिनमें से करीब 1000 मामले मुंबई से हैं. राज्य में 97 लोगों की मौत हुई है. तमिलनाडु में 900 मामले, दिल्ली में 700 से अधिक और राजस्थान में 500 से अधिक तथा मध्य प्रदेश एवं उत्तर प्रदेश, प्रत्येक में 400 से अधिक मामले दर्ज किये गये हैं.

हालांकि, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा कि राज्य में बृहस्पतिवार को 27 मामले सामने आने का जिक्र करते हुए यह आशंका जताई कि उनका राज्य महामारी के सामुदायिक प्रसार के चरण में प्रवेश कर सकता है.

ओडिशा द्वारा लॉकडाउन 30 अप्रैल तक बढ़ाने के एक दिन बाद पंजाब ने शुक्रवार को यही कदम उठाया.

हालांकि, राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन पर केंद्र सरकार का फैसला शनिवार को मुख्यमंत्रियों के साथ होने वाली बातचीत के बाद आने की उम्मीद है.

तमिलनाडु में एक विशेषज्ञ समिति ने मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी को सुझाव दिया है संक्रमण के मामले बढ़ने पर विचार करते हुए लॉकडाउन 14 अप्रैल के आगे भी दो हफ्तों के लिये बढ़ाया जाए.

कोरोनावायरस संक्रमण को फैलने से रोकने की विभिन्न कोशिशों पर दिन में प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) द्वारा एक समीक्षा बैठक की गई, जिसमें व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) के उत्पादन में तेजी लाने सहित अन्य मुद्दों पर चर्चा की गई.

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने भी 14 अप्रैल को खत्म होने जा रहे 21 दिनों के लॉकडाउन पर राज्य सरकारों के विचार मांगे हैं. क्या और अधिक लोगों एवं सेवाओं को छूट दिये जाने की आवश्यकता है, इस बारे में भी सुझाव मांगे गये हैं.

राज्य सरकारों द्वारा दिये गये सुझावों में ग्रामीण इलाकों में निर्माण संबंधी गतिविधियों को इजाजत देना शामिल है.

देश के विभिन्न हिस्सों में आवश्यक वस्तुओं की कमी पड़ने की भी खबरें हैं.

केरल जैसे राज्य ने चरणबद्ध तरीके से लॉकडाउन खोलने का सुझाव दिया है. ज्यादातार राज्यों ने सड़क परिवहन, रेल और विमान सेवाएं और अधिक समय के लिये स्थगित रखने का सुझाव दिया है. कई राज्यों ने माल ढुलाई को छोड़ कर प्रदेशों की सीमाएं सील रखने का भी अनुरोध किया है.

कुछ राज्यों ने सख्त प्रतिबंध के साथ क्षेत्रवार लॉकडाउन का सुझाव दिया है.

इस बीच दिल्ली, ओडिशा और तेलंगाना सहित कई राज्यों में घर से बाहर निकलने पर लोगों के लिये मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है.

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने आगामी त्योहारों के मद्देनजर सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से कहा है कि वे 21 दिनों के लॉकडाउन का कड़ाई से अनुपालन करवाएं और किसी भी सामाजिक या धार्मिक जलसे एवं जुलूस की अनुमति नहीं दें.

आधिकारिक विज्ञप्ति के मुताबिक अप्रैल महीने में आने वाले उत्सवों के मद्देनजर गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को निर्देश दिया है कि वे कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लागू लॉकडाउन (बंद) का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित करें और किसी भी सामाजिक, धार्मिक जलसे या जुलूस की अनुमति नहीं दे.

विश्व भर में अब तक 16 लाख लोग संक्रमित हुए हैं जबकि मृतक संख्या 96,000 पार कर गई है. 15,000 से अधिक मौत अमेरिका में हुई है, वहीं फ्रांस में 12,000 लोगों की मौत हुई है.

Next Story
Share it