दिल्ली विधानसभा चुनाव: अकाली दल ने भाजपा को तो तृणमूल कांग्रेस ने ‘आप’ को दिया समर्थन

 दिल्ली विधानसभा चुनाव: अकाली दल ने भाजपा को तो तृणमूल कांग्रेस ने ‘आप’ को दिया समर्थन

दिल्ली विधानसभा चुनाव: अकाली दल ने भाजपा को तो तृणमूल कांग्रेस ने ‘आप’ को दिया समर्थन – Basti Khabar

बीते 20 जनवरी को शिरोमणि अकाली दल नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने नागरिकता संशोधन कानून पर भाजपा के साथ मतभेद के चलते दिल्ली विधानसभा चुनाव में नहीं उतरने का ऐलान किया था. हालांकि, बुधवार को भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ लम्बी वार्ता के बाद अकाली दल के प्रमुख सुखबीर बादल ने कहा कि हम भाजपा को चुनाव में समर्थन दे रहे हैं.

नई दिल्ली: आठ फरवरी को होने वाले दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए सभी पार्टियां जोर-शोर से प्रचार करने के साथ राज्य में चुनाव न लड़ने वाली पार्टियों से भी समर्थन जुटाने में लगी हैं.

नागरिकता संशोधन कानून पर मतभेद की बात करते हुए भाजपा की पुरानी सहयोगी पार्टी शिरोमणि अकाली दल ने दिल्ली विधानसभा चुनाव में उतरने से मना करने के कुछ हफ्तों बाद ही भाजपा को समर्थन का ऐलान कर दिया है. वहीं, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस ने आम आदमी पार्टी को समर्थन देने का ऐलान किया है.

भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा और शिरोमणि अकाली दल प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने बुधवार को घोषणा की कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में शिरोमणि अकाली दल भाजपा को समर्थन देगी.

भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने संवाददाताओं से कहा, ‘भाजपा के साथ शिरोमणि अकाली दल का गठबंधन सबसे पुराना और मजबूत है. देश की जरूरतों के समय अकाली दल हमेशा आगे आता है.’ उन्होंने कहा कि आज अकाली दल ने दिल्ली में भाजपा को समर्थन देने का निर्णय किया है,

शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर बादल ने कहा कि हम भाजपा को चुनाव में समर्थन दे रहे हैं. भाजपा के साथ हमारा गठबंधन राजनीतिक नहीं बल्कि भावनात्मक है, दोनों दलों का गठबंधन देश और पंजाब के हित एवं भविष्य तथा शांति के लिये है. इसमें लेन देन की कोई बात नहीं है.

READ  जामिया हिंसाः पुलिस की कार्रवाई में 2.66 करोड़ रुपये की संपत्ति का नुकसान, एचआरडी को सौंपा बिल

उन्होंने कहा कि कुछ संवादहीनता की स्थिति थी और यह दूर हो गई है. हमारी पार्टी के सभी कार्यकर्ता पूरी ताकत से भाजपा के लिए जुटेंगे.

नड्डा और सुखबीर बादल के बीच संवाददाता सम्मेलन से पहले लम्बी वार्ता हुई. अकाली दल के दिल्ली का चुनाव नहीं लड़ने के निर्णय के बाद कई तरह की अटकलें सामने आ रही थीं. बादल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने करतारपुर कारिडोर सहित अनेक कार्यो को आगे बढ़ाया है.

शिरोमणि अकाली दल प्रमुख ने कहा कि हम संशोधित नागरिकता कानून के समर्थक हैं. पाकिस्तान और तालिबान के दौर में अफगानिस्तान से प्रताडि़त होकर आएं वहां के सिखों एवं अल्पसंख्यकों के मुद्दे को हमने लगातार उठाया. हमने मांग की थी कि इन्हें नागरिकता दी जाए.

हालांकि, इससे पहले 20 जनवरी को राजौरी गार्डन विधानसभा सीट से भाजपा के टिकट पर विधायक बन चुके अकाली दल नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा था कि भाजपा के साथ हमारी बैठक में हमसे सीएए पर रुख पर फिर से विचार करने को कहा गया लेकिन हमने ऐसा करने से मना कर दिया. शिरोमणि अकाली दल की पुरजोर राय है कि मुसलमानों को सीएए से अलग नहीं रखा जा सकता. उन्होंने कहा था कि हम राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के भी पुरजोर खिलाफ हैं.

वहीं, इससे पहले अकाली दल प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने कहा था कि सीएए में प्रताड़ित मुस्लिमों को भी शामिल किया जाना चाहिए.

दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी का समर्थन करते हुए ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता नेता डेरेक ओ’ ब्रायन ने आप उम्मीदवारों का प्रचार करते हुए ट्विटर पर एक वीडियो अपलोड कर लोगों से उन्हें वोट देने की अपील की.

ओ’ ब्रायन ने ट्वीट किया, ‘आम आदमी पार्टी के राजेन्द्र नगर निर्वाचन क्षेत्र से उम्मीदवार राघव चड्डा को वोट दें. दिल्ली में अरविंद केजरीवाल और सभी ‘आप’ उम्मीदवारों को वोट दें.’

READ  दिल्ली विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के अचानक गायब होने से हारी भाजपा: प्रकाश जावड़ेकर

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)