दिल्ली विधानसभा चुनाव: निर्वाचन आयोग ने एक दिन बाद जारी किए आंकड़े, 62.59 प्रतिशत मतदान हुआ

 दिल्ली विधानसभा चुनाव: निर्वाचन आयोग ने एक दिन बाद जारी किए आंकड़े, 62.59 प्रतिशत मतदान हुआ

दिल्ली विधानसभा चुनाव: निर्वाचन आयोग ने एक दिन बाद जारी किए आंकड़े, 62.59 प्रतिशत मतदान हुआ – Basti Khabar

अंतिम मतदान की घोषणा में देरी पर दिल्ली मुख्य चुनाव आयुक्त रणबीर सिंह ने कहा कि रिटर्निंग अधिकारी काम में व्यस्त थे और इसीलिए अंतिम घोषणा में देरी हुई. अंतिम मतदान की घोषणा में देरी पर आम आदमी पार्टी नेता संजय सिंह ने सवाल उठाए थे. वहीं, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी इसे बेहद चौकाने वाला बताया था.

नई दिल्ली: दिल्ली विधानसभा चुनाव में कुल 62.59 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. मतदान के अंतिम आंकड़ों को जारी करते हुए वरिष्ठ अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी. दिल्ली विधानसभा की कुल 70 सीटों के लिए शनिवार को वोट डाले गए थे.

दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी कार्यालय के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘चुनाव के अंतिम आंकड़ों के मुताबिक 62.59 फीसदी मतदान हुआ.’

यह आंकड़ा दिल्ली में हाल के लोकसभा चुनावों में दर्ज किए गए 60.5 फीसदी से लगभग दो प्रतिशत अधिक है, लेकिन 2015 के विधानसभा चुनावों में इससे अधिक था.

वर्ष 2015 में विधानसभा चुनाव में 67.47 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था.

अंतिम मतदान की घोषणा में देरी पर दिल्ली मुख्य चुनाव आयुक्त रणबीर सिंह ने कहा कि रिटर्निंग अधिकारी काम में व्यस्त थे और इसीलिए अंतिम घोषणा में देरी हुई.

बता दें कि, अंतिम मतदान की घोषणा में देरी पर आम आदमी पार्टी नेता संजय सिंह ने सवाल उठाए थे. वहीं, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी इसे बेहद चौकाने वाला बताया था.

केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा था, बेहद चौंकाने वाला है. चुनाव आयोग क्या कर रहा है? मतदान खत्म होने के कई घंटों बाद भी वे मतदान के आंकड़े क्यों नहीं जारी कर रहे हैं?

READ  यौन उत्पीड़न मामला: गार्गी कॉलेज की लड़कियों की वो मांगें, जिन्हें लेकर वो पांच दिन से धरने पर हैं

आप के राष्ट्रीय प्रवक्ता संजय सिंह ने भी चुटकी लेते हुए कहा था कि भारत के इतिहास में शायद यह पहली बार है कि चुनाव आयोग मतदान समाप्त होने के 20 घंटे बाद मतदान विवरण के साथ तैयार नहीं था.

चुनाव आयोग के वरिष्ठ उप चुनाव आयुक्त संदीप सक्सेना ने कहा कि सभी मतदान केंद्रों के आंकड़ों को पहले संकलित और जोड़ा गया था और इसीलिए अंतिम आंकड़े पर पहुंचने में समय लगा.

उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग सटीक संख्या के साथ आना चाहता था और इस कारण देरी हुई है. सक्सेना ने कहा कि महिला मतदाताओं की संख्या 62.55 फीसदी थी, जबकि पुरुषों की संख्या 62.62 फीसदी थी.

रणबीर सिंह ने कहा कि सबसे कम मतदान प्रतिशत दिल्ली कैंटोनमेंट में 45.4 फीसदी था. सबसे अधिक मतदान बल्लीमारान में 71.6 फीसदी दर्ज किया गया. ओखला में मतदान प्रतिशत 58.84 फीसदी और सीलमपुर में 71.2 फीसदी रहा.

मतदान संपन्न होने के बाद आए तकरीबन सभी चुनाव बाद सर्वेक्षणों (एग्जिट पोल) में मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी (आप) की बड़ी जीत का पूर्वानुमान व्यक्त किया गया है. कुछ सर्वेक्षणों में संकेत दिया गया है कि पार्टी 2015 का रिकॉर्ड दोहरा सकती है जब इसने 70 विधानसभा सीटों में से 67 पर जीत का परचम फहराया था.

इंडिया टुडे-एक्सिस के एग्जिट पोल के अनुसार आप को 59-68 और भाजपा को 2-11 सीट मिल सकती हैं. वहीं, एबीपी-सी वोटर के अनुसार आप को 49-63 और भाजपा को 5-19 सीट मिल सकती हैं.

टाइम्स नाउ-इस्पोस के अनुसार केजरीवाल की कुर्सी बरकरार रह सकती है और आप को 47 तथा भाजपा को 23 सीट मिल सकती हैं. रिपब्लिक-जन की बात के एग्जिट पोल के अनुसार आप को 48-61 और भाजपा को 9-21 सीट मिलने के आसार हैं.

टीवी 9 भारतवर्ष-सिसेरो के अनुसार आप को 52-64 और भाजपा को 6-16 सीट मिल सकती हैं. वहीं, नेता-न्यूज एक्स के अनुसार आप के खाते में 53-57 और भाजपा के खाते में 11-17 सीट आ सकती हैं.

एबीपी के सर्वेक्षण में कहा गया कि आप का वोट प्रतिशत 50.4 और भाजपा का वोट प्रतिशत 36 हो सकता है. वहीं, इंडिया टुडे-एक्सिस पोल के अनुसार दोनों पार्टियों के लिए यह आंकड़ा क्रमश: 56 और 35 प्रतिशत का हो सकता है.

वर्ष 2015 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में आप ने 67 सीटों के साथ प्रचंड जीत हासिल की थी और भाजपा के खाते में केवल तीन सीट आई थीं. तब दोनों पार्टियों का वोट प्रतिशत क्रमश: 54.3 और 32.3 प्रतिशत था.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Related post