26.8 C
Uttar Pradesh
Tuesday, August 16, 2022

‘डबल इंजन’ सरकार खत्म कर रही रसोई गैस की दुश्वारियां

भारत

डॉ. एसके सिंह
डॉ. एसके सिंह
Dr. SK Singh is a senior journalist, he has also worked for Dainik Jagran and Amar Ujala's newspapers.

अब रिफिल के लिए लाइन में लगने की जरूरत नहीं, कनेक्शन के लिए भी मारामारी नहीं।

लखनऊ। प्रदेश में करीब पांच साल पहले तक रसोई गैस की समस्या से हर कोई जूझ रहा था। रसोई गैस के कनेक्शन से लेकर उसे रिफिल कराने के लिए तमाम समस्याओं से जूझना पड़ता था, लेकिन अब हालात बदल गए हैं। केंद्र और प्रदेश की डबल इंजन सरकार इन दुश्वारियों को खत्म कर रही है। इसीलिए उज्ज्वला 2.0 योजना की शुरूआत उन लोगों के लिए भी की गई है, जो पहले पते के प्रमाण के अभाव में इस लाभ से वंचित रह गए थे। इसके तहत ऐसे 20 लाख लोगों को और लाभ मिलना है।

LPG gas
LPG gas

प्रदेश में अप्रैल 2014 में एलपीजी उपभोक्ताओं की संख्या 1.67 करोड़ थी, जो इस साल जुलाई तक बढ़कर 3.25 करोड़ हो गई है। प्रदेश में सिर्फ कनेक्शन में बढ़ोतरी नहीं की गई है, बल्कि एलपीजी कवरेज एरिया में भी बढोतरी की गई है। प्रदेश में अप्रैल 2016 में एलपीजी कवरेज 55.6 प्रतिशत था, जो इस साल अप्रैल तक बढ़कर 106.8 प्रतिशत हो गया है। एलपीजी की मांग बढ़ने पर उसके वितरण के लिए 1684 टीएमटीपीए (प्रति वर्ष हजार मीट्रिक टन) बॉटलिंग क्षमता को बढ़ाकर 2910 टीएमटीपीए किया गया है। जिस कारण वित्तीय वर्ष 2014-15 और 2020-21 के बीच प्रदेश में घरेलू एलपीजी की बिक्री में 77.24 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

1.38 करोड़ लाभार्थियों को 1817.28 करोड़ रुपए उनके खाते में सीधे भेजे

“प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना” समाज के अंतिम पायदान पर खड़ी महिलाओं के जीवन में व्यापक परिवर्तन कर उन्हें धुएं से होने वाली बीमारियों से मुक्ति दिलाने का माध्यम बनी है। प्रदेश में उज्ज्वला योजना के माध्यम से 1.47 करोड़ से ज्यादा लाभार्थियों के जीवन को धुएं से मुक्ति मिली है। देश के कुल लाभार्थियों में 18.34 प्रतिशत लाभार्थी उत्तर प्रदेश से हैं। केंद्र सरकार की ओर से पिछले साल लॉकडाउन के दौरान उज्ज्वला योजना के तहत फ्री रिफिल किया गया था। इस योजना में प्रदेश में 1.38 करोड़ लाभार्थियों को 1817.28 करोड़ रुपए उनके खाते में सीधे भेजे गए थे।

20 लाख और घरों को मिलेगी धुएं से मुक्ति

चूल्हे के धुएं से मुक्ति के महाभियान “प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना” के दूसरे चरण में प्रदेश की 20 लाख और घरों को धुएं से मुक्ति मिलेगी। प्रदेश के 10 जिलों सोनभद्र, बांदा, महोबा, चित्रकूट, रायबरेली, हरदोई, बदायूं, अमेठी, फतेहपुर और फर्रुखाबाद में उज्ज्वला 2.0 की शुरूआत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज कर दी है।

Advertisement
- Advertisement -

सबसे अधिक पढ़ी गई

- Advertisement -

ताजा खबरें