20.1 C
Uttar Pradesh
Tuesday, November 29, 2022

भारत का हर व्यक्ति योग के योग्य है, इसे अपनाकर रहें स्वस्थ

भारत

डॉ. एसके सिंह
डॉ. एसके सिंह
Dr. SK Singh is a senior journalist, he has also worked for Dainik Jagran and Amar Ujala's newspapers.

शिवमंदिर नरहरिया में तीन दिवसीय निशुल्क योग विज्ञान शिविर शुरू

बस्ती।शौच का अर्थ है पवित्रता, स्नान करने से हम केवल शरीर के बाहरी भाग को ही पवित्र रख सकते हैं आन्तरिक पवित्रता के लिए प्राणायाम, स्वाध्याय एवं ईश्वर में अटूट श्रद्धा का होना अनिवार्य है, प्राणों पर नियन्त्रण करने से हमारे मनोविचार संयमित होते हैं जिससे अंतःकरण पवित्र होता है। उक्त बातें गरुणध्वज ने शिवमंदिर नरहरिया बस्ती में चल रहे तीन दिवसीय निःशुल्क योग विज्ञान शिविर के प्रथम दिन साधकों को अष्टांग योग के बारे में बताते हुए विशेष रूप से नियम के विभागों शौच, सन्तोष, तप, स्वाध्याय और ईश्वर प्रणिधान के बारे में जानकारी देते हुए कही। योगासन कराते हुए मोटापा, मधुमेह, सर्वाइकल, तनाव आदि रोगों के निदान के लिए विभिन्न आसनों का अभ्यास कराया। इससे पूर्व शिविर का उद्घाटन सेवानिवृत्त पशु चिकित्सक डॉ आर के पाण्डेय व दन्त चिकित्सक डॉ सी पी त्रिपाठी ने वेदमंत्रों से किया।

डॉ आर के पाण्डेय ने कहा कि भारत का हर व्यक्ति योग के योग्य है। इसे अपनाकर सभी स्वस्थ रह सकते हैं। प्रशिक्षक द्वारा साधकों को चक्की चालन, द्विचक्रिकासन, कराते हुए बताया कि योग एलौपैथी की तरह केवल लक्षणों के आधार पर चिकित्सा नहीं करता बल्कि रोगों के मूल कारण को जड़ से समाप्त कर भीतर से स्वस्थता प्रदान करता है। सह योग शिक्षक शिव श्याम ने योग साधकों को भुजंगासन, शलभासन, मकरासन, मर्कटासन के साथ शवासन करने में मदद की।  इसके साथ ही आहार पर चर्चा करते हुए योग प्रशिक्षक ने बताया कि चिंता, शोक, थकान एवं जल्दीबाजी में भोजन नहीं करना चाहिए न ही समस्याओं पर चर्चा करनी चाहिए। भोजन सोने से दो या तीन घण्टे पहले कर लेना चाहिए। मूॅग की छिलके वाली दाल को पकाकर शद्ध देशी घी से छौंक लगाकर खाने से वात, पित्त, एवं कफ ये त्रिदोष शांत हो जाते हैं। शिविर व्यवस्थापक राजू पाण्डेय ने कहा कि योग को मात्र एक व्यायाम के रूप में देखा जाना चाहिए क्योंकि योग मानव जीवन की एक सतत प्रक्रिया है तथा सभी वर्गों के लिए अपनाने योग्य है। उन्होंने लोगों को शिविर में सपरिवार आने के अनुरोध किया।

Advertisement
- Advertisement -

सबसे अधिक पढ़ी गई

- Advertisement -

ताजा खबरें