Top

बुर्का पहनकर शाहीन बाग जाने वाली गुंजा कपूर का दावा- प्रदर्शन में कुछ तो छिपाया जा रहा है

गुंजा कपूर. यूट्यूबर हैं. 5 फरवरी को बुर्का पहनकर, नाम बदलकर शाहीन बाग गई थीं. वीडियो रिकॉर्ड कर रही थीं. प्रदर्शनकारी महिलाओं को जब उन पर शक हुआ, तो उन्हें पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया गया था. अब इस पूरे मामले में खुद गुंजा ने अपनी बात रखी है. गुंजा का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें वो कह रही हैं कि शाहीन बाग के प्रदर्शनकारी चाहते हैं कि केवल उनके ही लोग प्रोटेस्ट में आएं. साथ ही ये भी कहा कि स्वतंत्र पत्रकार को वहां नहीं जाने दिया जा रहा.

गुंजा ने अपने वीडियो की शुरुआत में उनकी सुरक्षा के लिए प्रार्थना करने वालों को धन्यवाद कहा. फिर कहा कि वो शाहीन बाग गई थीं, जहां जिन्ना वाली आज़ादी के नारे लगते हैं, जहां ‘भारत तेरे टुकड़े होंगे’ वाली मानसिकता रूप ले रही है. गुंजा का कहना है कि उन्हें आश्चर्य हो रहा है कि भारत की राजधानी के बीच बैठकर कोई इस तरह की बातें कैसे बोल सकता है. दावा किया कि शाहीन बाग में जरूर कुछ ऐसा हो रहा है, जिसे छिपाया जा रहा है.

खैर, उन्होंने कहा क्या है, आगे पढ़िए:

‘ये एक्सपोज़ हो गया कि किसी दूसरी विचारधारा से साब्ता रखने का उनका मन नहीं है और जब तक आप इनके किसी वैरिफाइड रेफरेंस के जरिए प्रोटेस्ट में नहीं आएंगे, आपके लिए इस प्रोटेस्ट में कोई स्वतंत्र जगह नहीं है. आपसे वो पूछते रहेंगे कि आपका क्या रेफरेंस है. मुझे नहीं पता कि वो ऐसा क्यों चाहते हैं? ऐसी क्या चीजें हो रही हैं, जो वो छिपाना चाहते हैं, जिसकी वजह से वो चाहते हैं कि केवल उनके ही लोग आएं. हो सकता है कि ऐसा कुछ हो रहा हो, जिसे छिपाने की कोशिश हो रही है. इसकी संभावना है. इसलिए स्वतंत्र पत्रकार या वीडियो बनाने वालों को वहां जाने नहीं दिया जा रहा.’

आगे लोगों से एकजुट होकर, शाहीन बाग के प्रोटेस्ट को एक्सपोज़ करने की अपील की. ये भी कहा कि उनके साथ वहां जो व्यवहार हुआ, वो प्रदर्शनकारियों की असली भावना को दिखा रहा है. कहा,

‘तिरंगा हाथ में लेने से आप भारत माता के लिए जो सद्भावना दिखा रहे हैं, वो सद्भावना कितनी गहरी है, वो आज आपने भारत की बेटी के साथ जो बर्ताव किया है, उससे साबित हो गया है.’

आखिरी में कहा कि ये एक लड़ाई है, सिविलाइजेशन की, इसमें सब एकसाथ हैं. आखिर में दिल्ली पुलिस को थैंक्यू बोला.

‘बड़ी मशक्कत के बाद महिला पुलिस कॉन्स्टेबल मेरे पास आ सकी थीं. हमें निकाल पाईं. वो दो बार आईं. दोनों बार महिलाओं ने पुलिस को भी खदेड़ दिया. वो तीसरी बार आईं, फिर किसी तरह हमें सुरक्षित निकाला.’

इस पूरे वीडियो में गुंजा ने वो बताया, जो उन्हें शाहीन बाग में नजर आया. लेकिन ये नहीं बताया कि क्या कारण था, जिसकी वजह से वो बुर्का पहनकर वहां गई थीं. उनसे ये सवाल वहां मौजूद लोगों ने भी कई बार पूछा था. एक वीडियो भी सामने आया था, जिसमें गुंजा एक कुर्सी पर बैठी दिख रही थीं. प्रदर्शनकारी महिलाएं उनसे बार-बार पूछ रही थीं कि वो बुर्का पहनकर क्यों आईं? लेकिन गुंजा ने एक बार भी उनके सवाल का जवाब नहीं दिया. मुंह फेरकर बैठी थीं. आगे देखिए वो वीडियो, जिसका जिक्र हम कर रहे हैं.

थोड़ी जानकारी शाहीन बाग की

CAA और NRC को लेकर वहां विरोध प्रदर्शन चल रहा है. महिलाएं धरना दे रही हैं. डेढ़ महीने से भी ज्यादा वक्त से लोग वहां बैठे हुए हैं. मांग कर रहे हैं कि सरकार CAA को वापस ले, NRC नहीं लाया जाए.

Next Story
Share it