उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा कोविड संकट में जारी किए गए महत्वपूर्ण निर्देश, जिसकी जानकारी सभी को होनी चाहिए

Important instructions issued by Uttar Pradesh government in Covid crisis- Basti Khabar
Important instructions issued by Uttar Pradesh government in Covid crisis- Basti Khabar

उत्तर प्रदेश। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा अभी हाल ही में कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर दिशा निर्देशों जारी किए गए हैं, जो इस तरह हैं-

राजकीय कर्मियों की कोरोना संक्रमण से मृत्यु होने पर अनुमन्य सहायता तत्काल उपलब्ध कराई जाए। ऐसे किसी भी कर्मी की देय धनराशि बकाया न रहे। प्रभावित कर्मी से सम्बन्धित सभी प्रकरणों का समय-सीमा में निस्तारण किया जाए।

राजकीय कर्मी की मृत्यु की स्थिति में नियमानुसार परिवार के एक सदस्य का राजकीय सेवा में सेवायोजन किया जाए। शिक्षामित्र, रोजगार सेवक आदि की मृत्यु की दशा में परिवार के एक सदस्य का उस पद पर समायोजन किया जाए।

त्रिस्तरीय पंचायत सामान्य निर्वाचन-2021 में ड्यूटी करने वाले कर्मियों की कोरोना संक्रमण से मृत्यु की स्थिति में उनके आश्रितों को कंपनसेशन देने के लिए व्यवस्था बनाने के निर्देश दिए हैं। .ऐसे में प्रभावित परिवारों को समुचित मदद उपलब्ध कराने के लिए राज्य निर्वाचन आयोग से गाइडलाइंस में संशोधन का अनुरोध किया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं सचिव, उत्तर प्रदेश सरकार एवं अपर मुख्य सचिव, पंचायतीराज को इस सम्बन्ध में राज्य निर्वाचन आयोग से संवाद बनाकर अनुरोध करने के निर्देश भी दिए हैं।

कोरोना वैक्सीन की कार्यवाही व्यवस्थित, निर्बाध और प्रभावी ढंग से संचालित की जाए। विगत दिवस तक 1 करोड़ 56 लाख 46 हजार से अधिक कोरोना वैक्सीन की डोज लगा दी गई हैं।

कोविड बेड्स की संख्या में निरन्तर वृद्धि की जा रही है। विगत दिवस विभिन्न अस्पतालों एवं मेडिकल कॉलेजों में 382 बेड्स की बढ़ोत्तरी हुई है। KGMU में एक पीडियाट्रिक ICU (पीकू) तैयार हो गया है। एक अन्य पीकू की स्थापना का कार्य प्रगति पर है। RMLIMS में 120 बेड का पीकू तैयार हो रहा है।

See also  यूपी के 18 जिलों में कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालयों में 9 करोड़ का घोटाला, फिर घिरे शिक्षा मंत्री

प्रदेश के सभी सरकारी अस्पतालों, मेडिकल कॉलेजों तथा निजी अस्पतालों में ब्लैक फंगस का उपचार करा रहे रोगियों की पूरी केस हिस्ट्री तथा लाइन ऑफ ट्रीटमेंट की जानकारी प्राप्त कर विशेषज्ञों को उपलब्ध कराई जाए।

ब्लैक फंगस के उपचार की दवाएं हर जनपद में उपलब्ध करा दी गई हैं। निजी अस्पतालों में इस बीमारी का इलाज करा रहे रोगी भी सम्बन्धित मण्डलायुक्त को प्रार्थना पत्र देकर दवा प्राप्त कर सकते हैं।

राज्य सरकार के इस वित्तीय वर्ष के बजट में युवाओं को टैबलेट देने की व्यवस्था की गई है। महाराज जी ने इस सम्बन्ध में पूरी कार्ययोजना बनाकर प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं।

सभी CSC पर वैक्सीनेशन हेतु रजिस्ट्रेशन कार्य प्रारम्भ हो गया है। 45 वर्ष से अधिक आयु वर्ग में अब तक 01 करोड़ 54 लाख 61 हजार से अधिक वैक्सीन डोज दिए जा चुके हैं। 17 मई, 2021 से 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के लोगों के कोरोना वैक्सीनेशन का कार्य 23 जनपदों में किया जा रहा है।

जुलाई माह से इंसेफेलाइटिस के मामले भी सामने आने लगते हैं। इसके दृष्टिगत गोरखपुर जनपद सहित विभिन्न जनपदों में स्थापित इंसेफेलाइटिस ट्रीटमेंट सेंटर्स को कार्यशील किया जाए।

पोस्ट कोविड अवस्था में ब्लैक फंगस से प्रभावित व्यक्तियों के उपचार के सभी प्रबन्ध सुनिश्चित किए जाएं। संक्रमण से प्रभावित सभी मरीजों को दवा तत्काल उपलब्ध कराई जाए। सभी जनपदों में ब्लैक फंगस की दवाओं की पर्याप्त उपलब्धता रहे।

निजी अस्पतालों में भर्ती ब्लैक फंगस के मरीजों को भी दवा उपलब्ध कराई जाए। यह भी सुनिश्चित किया जाए कि इस व्यवस्था का दुरुपयोग न हो।

See also  उत्तर प्रदेश आबकारी विभाग में बड़े पैमाने पर स्थानांतरण

Advertisement

Related Posts

This Post Has One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *