कोरोना के खिलाफ लड़ाई में दुनिया भर के धन्ना सेठों ने हचक के पैसा दिया है

कोरोना वायरस. अब तक दुनियाभर में 13 हज़ार से ज़्यादा लोग इसकी वजह से मारे जा चुके हैं. इस महामारी से दुनियाभर में तीन लाख से ज़्यादा लोग बीमार हैं. फ़िलहाल इसकी कोई वैक्सीन नहीं है. सोशल डिस्टेंसिग यानी एक-दूसरे से दूरी बनाकर रखने को ही इस बीमारी से लड़ने का इकलौता हथियार माना जा रहा है. दुनियाभर की सरकारें हर तरह की कोशिश कर रही हैं. लेकिन इस वक़्त दुनिया के सबसे अमीर कहे जाने वाले खरबपति क्या कर रहे हैं? कैसे ये ताक़तवर लोग दुनिया की मदद कर रहे हैं, आइए देखें.

# बिल गेट्स के 100 मिलियन

बिल गेट्स इससे पहले भी दिल खोलकर मदद करने के लिए जाने जाते रहे हैं.  ‘बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउन्डेशन’ के जरिए दुनियाभर में जब-तब मदद भेजते रहते हैं. इस बार महामारी COVID-19 से लड़ने के लिए बिल गेट्स ने 100 मिलियन डॉलर दान किया है. ये तगड़ी रक़म उन्होंने वैक्सीन तैयार करने और इलाज के लिए दी है.

# चीनी खरबपति जैक मा ने भी राहत भेजी

जैक मा दुनिया के सबसे अमीर लोगों की लिस्ट में ऊपर-नीचे होते रहते हैं. अलीबाबा के को-फाउंडर हैं. इन्होंने 14 मिलियन डॉलर दिए हैं COVID-19 की वैक्सीन तैयार करने के लिए. जैक मा ने अमेरिका को पांच लाख टेस्टिंग किट और 10 लाख मास्क भी दिए हैं.

# एपल के मास्क

नहीं, एपल अपने ब्रांड के मास्क नहीं ला रहा. एपल ने बेहतरीन क्वालिटी के मास्क बांटने का वादा किया है. एपल का कहना है,

‘हमारी टीम COVID-19 से फ्रंटलाइन पर लड़ने वाले योद्धाओं के लिए मास्क बांटने का काम कर रही है. हम लाखों मास्क अमेरिका के स्वास्थ्य विभाग को बांट रहे हैं.

एपल के सीईओ टीम कुक ने ट्विटर पर लिखा था, ‘महामारी से लड़ने वाले हर शख्स को सलाम.’

# जॉर्जियो अरमानी ने भी मदद की

फैशन डिज़ाइनर जॉर्जियो अरमानी ने COVID-19 से लड़ने के लिए इटली में 1.43 मिलियन डॉलर दान किए हैं. चीन के बाद इटली ही है, जो सबसे ज़्यादा इस महामारी की चपेट में है.

# माइकल ब्लूमबर्ग की दरियादिली

खरबपति माइकल ब्लूमबर्ग ने विकासशील या कम विकसित देशों में कोरोना वायरस के असर को कम करने या ख़त्म करने के लिए 40 मिलियन डॉलर की रक़म का इंतज़ाम किया है. माइकल ब्लूमबर्ग ने इसके लिए वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइज़ेशन (WHO) और ‘ग्लोबल हेल्थ ऑर्गनाइज़ेशन वाइटल स्ट्रेटजीज़’ से पार्टनरशिप की है.

READ  अमेरिका ने कोविड-19 वैक्सीन का पहला परीक्षण किया, कई देश टीका विकसित करने के लिए प्रयासरत