Top

बढ़ सकता है लॉकडाउन, देशभर के मुख्यमंत्रियों ने पीएम मोदी को दिया सुझाव

पीएम ने राज्यों के सीएम से कहा कि मैं आप सभी के लिए 24 घंटे सातों दिन उपलब्ध हूं.आप लोग जब चाहे फोन कर इस मसले पर मुझसे बात भी कर सकते है. वहीं पीएम ने भी मुख्यमंत्रियों के सुझाव को मानते हुए लॉकडाउन को बढ़ाने के संकेत दिए हैं.

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक की. इस बैठक में पीएम ने राज्यों के वर्तमान स्थिति के अलावा उनके द्वारा उठाए जा रहे कदम पर चर्चा की. बैठक में देश में लॉकडाउन को आगे बढ़ाने को भी लेकर भी राज्यों के मुख्यमंत्रियो से विचार-विमर्श किया गया.

इन राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने की मांग

कई राज्यों के सीएम ने पीएम मोदी से लॉकडाउन को दो सप्ताह तक बढ़ाने की अपील की है.अब केंद्र सरकार लॉकडाउन की समय सीमा बढ़ाने पर विचार कर रही है. दिल्ली, महाराष्ट्र, उत्तराखंड, राजस्थान, मध्य प्रदेश और पंजाब समेत कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने लॉकडाउन बढ़ाने के लिए सुझाव दिए.

बैठक में कोरोनावायरस से निपटने के लिए राज्यों से सुझाव भी मांगे. बैठक में स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोनावायरस को लेकर प्रेजेंटेशन भी दिया. पीएम मोदी ने भी वीडियों कॉन्फ्रेंसिंग में मास्क पहना हुआ था. उन्होंने अपने सफेद गमछे को अपना मास्क बनाया था.

बैठक के बाद दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा कि पीएम ने लॉकडाउन बढ़ाने का फैसला किया है.भारत की स्थिति कई विकसित देशों से बेहतर है क्‍योंकि हमने पहले लॉकडाउन कर दिया. अगर इसे अभी रोका गया तो सारी कोशिश बेकार जाएगी. हमें स्थिति मजबूत करने के लिए लॉकडाउन बढ़ाना जरूरी है.

वही पश्चिम बंगाल के सीएम ममता बनर्जी ने इस बैठक में पीएम से संगठित क्षेत्र के लिए विशेष पैकेज की मांग भी की. छत्तसीगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने राज्य की सीमा के भीतर आर्थिक गतिविधियां संचालित करने के लिए अनुमति देने की बात रखी.

पीएम बोले मैं 24 घंटे उपलब्ध हूं

पीएम मोदी ने सभी मुख्यमंत्रियों से कहा, ‘केंद्र और राज्य और राज्य सरकारें कंधे से कंधा मिलाकर चलेंगी और एक निश्चित रणनीति के तहत काम करेंगी तो ही हम देशवासियों को कोरोना संक्रमण से होने वाले नुकसान से उन्हें बचा सकेंगे. ‘

पीएम ने राज्यों के सीएम से कहा, ‘मैं आप सभी के लिए 24 घंटे सातों दिन उपलब्ध हूं.आप लोग जब चाहे फोन कर इस मसले पर बात भी कर सकते है.’

पीएम ने कहा कि जान है तो जहान है, जब मैंने राष्ट्र के नाम संदेश दिया था तो इस पर बल दिया था कि हर व्यक्ति की जान बचाने के लिए लॉकडाउन और सामाजिक दूरी का पालन बहुत जरुरी है. देश के लोगों ने इसे समझा और अपने घरों में रहकर दायित्व को निभाया.

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राज्यों से विभिन्न आयामों को लेकर विचार मांगे हैं जिसमें यह पूछा गया है कि क्या कुछ अन्य श्रेणियों के लोगों और सेवाओं को छूट दिये जाने की जरूरत है. वर्तमान लॉकडाउन में केवल आवश्यक सेवाओं को छूट दी गई है.

लॉकडाउन लागू होने के बाद यह दूसरा अवसर है जब प्रधानमंत्री इस विषय पर मुख्यमंत्रियों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये संवाद कर रहे हैं.इससे पहले 2 अप्रैल को मुख्यमंत्रियों के साथ संवाद के दौरान मोदी ने उनसे लॉकडाउन से ‘क्रमवार’ तरीके से बाहर आने बारे में सुझाव मांगा था.

जानकारी के अनुसार, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कृषि और उद्योग क्षेत्रों के लिए विशेष रियायतों के अलावा कम से कम 15 दिन तक देशभर में लॉकडाउन बढ़ाने की सिफारिश की है. वहीं उन्होंने कोरोना के लिए रैपिड टेस्टिंग किट की भी मांग की है.

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने पीएम मोदी को सुझाव दिया कि लॉकडाउन का फैसला राष्ट्रव्यापी हो. वहीं पूरे देश में 30 अप्रैल तक लॉकडाउन को बढ़ाया जाए. राज्य अपने स्तर पर फैसला करेंगे तो उतना असर नहीं होगा.केजरीवाल पहले भी लॉकडाउन बढ़ाए जाने का समर्थन कर चुके हैं.

पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने बैठक में पीएम मोदी से देश में लॉकडाउन को आगे बढ़ाने की बात कही. ममता ने कहा कि लॉकडाउन को बढ़ाया जाना चाहिए, लेकिन इसे थोड़ा मानवीय भी बनाया जाना चाहिए. साथ ही असंगठित क्षेत्र के लिए विशेष पैकेज की मांग भी की. उन्होंने कहा कि ट्रेन और उड़ान को फिलहाल बंद ही रखा जाना चाहिए.

कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री बीएस येदियुरप्‍पा ने कहा कि पीएम मोदी ने बातचीत के दौरान बताया कि हमें लॉकडाउन से समझौता नहीं करना चाहिए.

बैठक में महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने भी देश में लॉकडाउन को बढ़ाए जाने की मांग की. हालांकि, इस बैठक से पूर्व ही ओडिशा में 30 अप्रैल और पंजाब में एक मई तक लॉकडाउन बढ़ाए जाने का फैसला लिया जा चुका है.

इधर, तमिलनाडु में विपक्षी दल द्रमुक ने राज्य सरकार से अपील की है कि तमिलनाडु सरकार भी पंजाब और ओडिशा की तरह लॉकडाउन की अवधि को बढ़ाए ताक कोरोना के प्रसार को रोका जा सकें.

कोरोना संकट को देखते हुए पीएम मोदी ने 24 मार्च को देश में 21 दिन के लॉकडाउन का ऐलान किया था. 25 मार्च से शुरू हुए देशव्यापी लॉकडाउन का आखिरी दिन 14 अप्रैल है. लॉकडाउन के इन दिनों में भी कोराना वायरस के मामले भी तेजी से बढ़े है. इसी संक्रमण को रोकने के लिए इस लॉकडाउन को दो सप्ताह तक बढ़ाया जा सकता है.

Next Story
Share it