Top

अर्नब की रिहाई पर ब्रिटेन में कार्यरत आईटी प्रोफेशनल राजेश कुमार ने लिखी कविता, पढ़ें

अर्नब की रिहाई पर ब्रिटेन में कार्यरत आईटी प्रोफेशनल राजेश कुमार ने लिखी कविता, पढ़ें
X

रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी आज तलोजा जेल से रिहा हो गए हैं। रिहा होने के बाद अर्नब गोस्वामी ने कहा कि 'सुप्रीम कोर्ट का आभारी हूं। ये भारत के लोगों की जीत है। अर्नब गोस्वामी ने तलोजा जेल से रिहा होने के बाद अपने समर्थकों के प्रति आभार प्रकट किया। जेल से बाहर निकलने के बाद अर्नब गोस्वामी ने भारत माता की जय और वंदे मातरम के नारे लगाए।

अर्नब की रिहाई पर ब्रिटेन में कार्यरत आईटी प्रोफेशनल राजेश कुमार ने कविता लिखी है।

यहां पढ़े कविता


याद दिला दें कि सुप्रीम कोर्ट नेरिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्नब को बुधवार को अंतरिम जमानत देते हुये कहा कि अगर व्यक्तिगत स्वतंत्रता को बाधित किया जाता है तो यह न्याय का उपहास होगा। साथ ही कोर्ट ने लोगों को इस तरह निशाना बनाए जाने को लेकर राज्य सरकार के रवैये पर गहरी चिंता व्यक्त की।

न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति इन्दिरा बनर्जी की अवकाशकालीन पीठ ने कहा कि अर्नब की रिहाई में विलंब नहीं होना चाहिए और जेल प्रशासन को इसे सुगम बनाना चाहिए।

बता दें, रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी ने बंबई उच्च न्यायालय के नौ नवंबर के आदेश को चुनौती दी है जिसमें उन्हें अंतरिम जमानत देने से इंकार करते हुये कहा गया था, ''इसमें हमारे असाधारण अधिकार का इस्तेमाल करने के लिये कोई मामला नहीं बनता है।''

अर्नब ने अंतरिम जमानत के साथ ही इस मामले की जांच पर रोक लगाने और उनके खिलाफ दर्ज प्राथमिकी निरस्त करने का अनुरोध सुप्रीम कोर्ट से किया था। उनको चार नवंबर को मुंबई में उनके निवास से गिरफ्तार करके पड़ोसी जिले रायगढ़ के अलीबाग ले जाया गया था। गोस्वामी को शुरू में अलीबाग जेल के लिये कोविड-19 पृथकवास केन्द्र के रूप में काम कर रहे एक स्थानीय स्कूल परिसर में रखा गया था लेकिन रविवार को उन्हें रायगढ़ जिले में स्थित तलोजा जेल भेज दिया गया था।


Basti Khabar

Basti Khabar

Basti Khabar Pvt. Ltd. Desk


Next Story
Share it