30.1 C
Uttar Pradesh
Wednesday, August 17, 2022

राष्ट्रीय पुरस्कार से ‘कृषि विज्ञान केन्द्र बस्ती’ को किया गया सम्मानित

भारत

नगर बाजार/बस्ती। आचार्य नरेन्द्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, कुमारगंज, अयोध्या द्वारा संचालित कृषि विज्ञान केन्द्र बस्ती के विगत पाॅच वर्षों के अथक परिश्रम एवं जनपद में तकनीकी हस्तानान्तरण के प्रभाव को देखते हुए भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आई.सी.ए.आर.), नई दिल्ली द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर पंडित दीनदयाल उपाध्याय कृषि विज्ञान प्रोत्साहन पुरस्कार, 2021 प्रदान किया गया।

यह पुरस्कार भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आई.सी.ए.आर.) के स्थापना दिवस के अवसर पर माननीय श्री नरेन्द्र सिंह तोमर, केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, खाद्य प्रसंस्करण, उद्योग, ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज, मंत्री, भारत सरकार द्वारा डा. एसएन सिंह, प्राध्यापक एवं अध्यक्ष को आचार्य नरेन्द्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, कुमारगंज, अयोध्या के कुलपति, डा. बिजेन्द्र सिंह एवं निदेशक प्रसार प्रो. एपी राव, केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री भारत सरकार, श्री कैलाश चैधरी, केन्द्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन एवं डेयरी मत्री, भारत सरकार श्रीयुत् पुरूषोत्तम रूपाला, सदस्य, नीति आयोग, भारत सरकार, श्री राम चन्द्र, सचिव डेयर एवं महानिदेशक, भारतीय कषि अनुसंधान परिषद, डा. त्रिलोचन महापात्र व उपमहानिदेशक, कृषि प्रसार, डा. अशोक कुमार सिंह तथा भारत सरकार के विभिन्न संस्थानों के निदेशक, प्रधान वैज्ञानिकों आदि की उपस्थिति में प्रदान किया गया।

'Krishi Vigyan Kendra Basti' honored with National Award

माननीय कुलपति डा. बिजेन्द्र सिंह एवं निदेशक प्रसार, प्रो. एपी राव के कुशल मार्गदर्शन एवं दिशा निर्देश में 2019 में कृषि विज्ञान केन्द्र, बस्ती को प्रदेश स्तर पर पंडित दीनदयाल उपाध्याय राष्ट्रीय कृषि विज्ञान प्रोत्साहन पुरस्कार, 2019 प्राप्त हुआ था, तथा माननीय कुलपति महोदय के सहयोग से पुनः राष्ट्रीय स्तर पर पंडित दीनदयाल उपाध्याय कृषि विज्ञान प्रोत्साहन पुरस्कार, 2021 से कृषि विज्ञान केन्द्र, बस्ती को विभूषित किया गया।

उक्त पुरस्कार प्राप्त करने में उप महानिदेशक (कृषि प्रसार), भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, नई दिल्ली, डा. अशोक कुमार सिंह, निदेशक, कृषि तकनीकी अनुप्रयोग एवं अनुसंधान संस्थान (अटारी), कानपुर, डा. यूएस गौतम एवं वैज्ञानिकों का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

कृषि विज्ञान केन्द्र बस्ती के विकास में श्रीयुत सूर्य प्रताप शाही जी, कृषि, कृषि शिक्षा एवं कृषि अनुसंधान मंत्री, उत्तर प्रदेश सरकार के विशेष सहयोग के कारण यह उपलब्धि प्राप्त हुई है। चार वर्ष पूर्व माननीय मंत्री जी ने इस केन्द्र के स्ट्रेन्थिनिंग, प्रदर्शन इकाइयों की स्थापना, बाउन्ड्री वाल, आदि कार्य हेतु 3.5 करोड रू. आर.के.वी.वाई. योजनन्तर्गत प्रदान किया, तब से केन्द्र के वैज्ञानिकों के अथक प्रयास से, केन्द्र अपनी सफलता की गाथा लिखता जा रहा है।

इस सफलता का श्रेय मुख्य रूप से केन्द्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक, डा. एसएन लाल, डा. डीके श्रीवास्तव, डा. वीना सचान, डा. प्रेम शंकर, डा. आरबी सिंह, डा. बीवी सिंह, डा. मनोज कुमार सिंह, डा. दिनेश कुमार यादव, ई. वरूण कुमार, डा. अंजली वर्मा, श्री हरिओम मिश्रा, डा. राकेश शर्मा एवं कर्मचारी जितेन्द्र प्रताप शुक्ल, निखिल सिंह, प्रहलाद सिंह, योगेन्द्र प्रताप सिंह, अविनाश सिंह, बनारसी लाल, सीताराम, राम प्रकाश आदि को जाता है।

इस पुरस्कार को प्राप्त करने में डा. एस.के. तोमर, वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष, केवीके वेलीपार, गोरखपुर एवं डा. सौरभ वर्मा, वैज्ञानिक (शस्य), केवीके, सुल्तानपुर का अथक प्रयास रहा है।

कृषि विज्ञान केन्द्र, बस्ती की तकनीकियाॅ, पेड़ पौधे, बीज इस जनपद के किसानों के अतिरिक्त अन्य जनपदों के कृषकों का भी प्राप्त हो रहे हैं। केन्द्र पर सभी प्रदर्शन इकाईयाॅ स्थापित है। वर्ष भर पेंड-पौध, सब्जियों आदि के बीज एवं पौध प्रदान किये जाते हैं तथा बेरोजगार युवकों को व्यवसायिक प्रशिक्षण प्रदान करके कृषिगत रोजगार में लगाने का कार्य केवीके बस्ती अनवरत कर रहा है जिसमें जिला प्रशासन माननीय मंडलायुक्त श्री गोविन्द राजू एन.एस., जिलाधिकारी, श्रीमती प्रियंका निरंजन, मुख्य विकास अधिकारी, डा. राजेश कुमार प्रजापति एवं जनपद स्तरीय अधिकारियों का सहयोग इस केन्द्र को सतत् प्राप्त होता रहा है।

कृषि विज्ञान केन्द्र, बस्ती को ऊचाइयाॅ प्रदान करने में प्रिंट एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया का भी विशेष योगदान रहा है जिनके माध्यम से केन्द्र के वैज्ञानिकों ने नवीनतम् तकनीकों का जनपद में प्रचार-प्रसार किया तथा कृषकों को लाभान्वित किया।

इस कामयाबी पर जनपद के प्रगतिशील कृषक एवं कृषक महिलायें, जनपद स्तरीय समस्त अधिकारी, प्रिंट एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया के पत्रकार कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिकों एवं कर्मचारियों को बधाइयाँ दे रहे हैं।

Advertisement
- Advertisement -

सबसे अधिक पढ़ी गई

- Advertisement -

ताजा खबरें