Top

लखनऊ से बड़ी ख़बर: विभूतिखंड में गैंगवार बदमाशों ने मऊ के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह पर बरसाई गोलियां

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में मऊ जिले के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई। खुलेआम फायरिंग से इलाके में हड़कंप मच गया है। घटना विभूतिखंड थाना इलाके की है।

लखनऊ से बड़ी ख़बर: विभूतिखंड में गैंगवार बदमाशों ने मऊ के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह पर बरसाई गोलियां
X
  • लखनऊ के विभूति खंड इलाके में फायरिंग
  • कठौता चौराहे पर गैंगवार में चली गोलियां
  • मऊ के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की हत्या
  • गोली लगने से अजीत के साथी मोहर सिंह घायल

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में गैंगवार के दौरान मऊ जिले के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई। दिनदहाड़े फायरिंग से इलाके में हड़कंप मच गया। घटना राजधानी के विभूतिखण्ड थाना क्षेत्र के पॉश इलाके कठौता चौराहे की है। फायरिंग में दो लोगों के घायल होने की सूचना मिली है।

पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह/ फाइल फोटो


बताया गया कि गैंगवार के चलते ताबड़तोड़ फायरिंग की गई। पुलिस के मुताबिक देर शाम करीब 9 बजे कठौता चौराहे से 50 मीटर की दूरी पर फायरिंग की सूचना मिली। मौके पर पहुंची पुलिस ने घटना में घायल अजीत सिंह और उसके साथी मोहर सिंह को लोहिया अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने अजीत सिंह को मृत घोषित कर दिया।

लखनऊ के पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर ने घटना के बारे में विस्तार से जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि रात को तकरीबन 8:30 से 9:00 के बीच विभूति खंड थाना क्षेत्र के अंतर्गत कठौता झील के पास घटना हुई है। मृतक का नाम अजीत सिंह उर्फ लंगड़ा है। पुलिस ने बताया कि अजीत ब्लॉक प्रमुख नहीं है। वह पहले कभी ब्लॉक प्रमुख रहा है। उन्होंने बताया कि अजीत के साथी मोहर सिंह को भी गोली लगी है लेकिन वह खतरे से बाहर हैं।

तीन शूटरों ने ताबड़तोड़ गोलियां चलाईं

इसके अलावा वहां से गुजर रहे जोमैटो या स्विगी के सेल्समैन प्रकाश को भी पैर में गोली लगी है। वह भी खतरे से बाहर है। पुलिस ने बताया कि अजीत सिंह माफिया और क्रिमिनल है, जिसके खिलाफ 17-18 मुकदमे दर्ज हैं। सिंह पर 5 मुकदमा मर्डर का दर्ज है। हाल ही में उसे जिला मैजिस्ट्रेट के आदेश पर जिला बदर किया गया था। अजीत सिंह के साथियों से बातचीत हो रही है। उन्होंने बताया कि गोली मारने वाले मृतक के परिचित हैं। तकरीबन 25 से 30 राउंड फायरिंग की गई है। 0.32 और 9 एमएम बोर की गोली मौके से मिली है। अधिकारी ने कहा कि अजीत के साथी मोहर सिंह ने बताया कि कुल तीन हमलावर थे। मऊ से मामले की और जानकारी पता की जा रही है।

मुख्तार अंसारी के करीबी माने जा रहे अजीत सिंह

बताया गया कि अजीत सिंह मऊ जिले के मोहम्मदाबाद गोहाना के रहने वाले थे। इनकी पत्नी फिलहाल ब्लॉक प्रमुख हैं। सिंह भी पहले ब्लॉक प्रमुख रह चुके हैं। अजीत सिंह की हत्या को विधायक शिबू सिंह हत्याकांड से जोड़कर देखा जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक अजीत सिंह मऊ जिले के मुख्तार अंसारी का बहुत क़रीबी था। दर्जनों अपराधिक मामलो मे अजीत सिंह लिप्त था। आज़मगढ़ के एक बाहुबली पर हत्या कराने का शक जाहिर किया गया है।

घटना के बाद प्रदेश सरकार व कानून व्यवस्था की कड़ी निंदा

अभी हाल ही में हुए बदायूं गैंगरेप की वीभत्स घटना शांत नहीं हुयी कि लखनऊ में हुए इस घटना ने प्रदेश सरकार की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े कर दिए हैं. लोगों ने इस घटना को प्रदेश सरकार की नाकामी बताते हुए कड़ी निंदा की है.


[ बस्ती ख़बर की विशेष संक्षिप्त खबरों के लिए Twitter पर जुड़ें, और फॉलो करें। ]
Basti Khabar

Basti Khabar

Basti Khabar Pvt. Ltd. Desk


Next Story
Share it