महोत्सव से एतराज, मुशायरे से प्यार – बस्ती के भाजपा विधायक

बीते कुछ ही दिनों पहले जिले स्तरीय एक बेहद प्रभावी सामाजिक कार्यक्रम बस्ती महोत्सव कार्यक्रम का भाजपा के विधायक द्वारा बहिष्कार करने का मामला सामने आया था| आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जनपद स्तरीय बस्ती महोत्सव का इस बार 2020 में कार्यक्रम का दूसरा वर्ष था| पिछले वर्ष की भांति इस बार भी रुधौली विधानसभा से भाजपा के विधायक संजय प्रताप जायसवाल द्वारा जिला प्रशासन पर यह आरोप लगाया गया था कि- “बस्ती महोत्सव कार्यक्रम जनता के पैसों से करवाया जा रहा है| और इस कार्यक्रम को करने में जिले के तमाम विभागों के अधिकारियों, कर्मचारियों सरकारी, गैर सरकारी व आम लोगों से अवैध वसूली करके बस्ती महोत्सव संपन्न कराया जा रहा है|”

विधायक द्वारा पिछले साल से ही बस्ती महोत्सव के एतराज करने का सिलसिला इस बार भी जारी रहा| लेकिन चौंकाने वाली बात ये है कि बस्ती जनपद के भाजपा खेमे में बस्ती महोत्सव का एतराज करने वाले पार्टी के लोगों में विधायक जी अकेले हैं| मतलब बस्ती महोत्सव का समर्थन करने वाले खेमे में खुद सांसद व चार विधानसभाओं के 4 विधायक एक तरफ और बस्ती महोत्सव का विरोध करने वाले अकेले भाजपा के विधायक संजय प्रताप जायसवाल एक तरफ| पिछली बार की तरह इस बार भी जिला प्रशासन पर वसूली करके महोत्सव कराने का आरोप विधायक द्वारा लगाया गया है| और इस बार भी ये विधायक जी महोत्सव का विरोध करने वाले अकेले ही हैं| एक प्रेस कांफ्रेंस में इन्ही विधायक द्वारा आरोप के तौर पर लगभग आधा दर्जन से भी अधिक चिन्हित जगहों से वसूली करने का आरोप काफी विश्वास से लगाया गया था| विधायक द्वारा जिला प्रशासन पर लगाए गए आरोप में कितनी सच्चाई है यह बीते दो वर्षों से अभी तक स्पष्ट नहीं हो पायी| और न ही आज तक किसी कागजी कार्यवाही में किसी भी अधिकारी व कर्मचारी से अवैध वसूली करने की शिकायत के मामले सामने आये हैं| खबर है कि उलटे विधायक अपने आरोपों को लेकर खुद ट्रोल हो गए|

READ  Latest Basti News Update: बस्ती में पुलिस और राजस्व टीम पर हुआ हमला

महोत्सव का एतराज करने वाले ख़बरों पर आम जनता की प्रतिक्रियाएं तेजी से आने लगी, जो विधायक जी को ही शक के घेरे में खड़ी कर देने वाली थीं| इस बार के बस्ती महोत्सव के संपन्न होने के सप्ताह भर बाद आज 11 जनवरी को अपने विधानसभा क्षेत्र के रुधौली नगर पंचायत में इन्ही विधायक द्वारा एक राष्ट्रीय कवि सम्मलेन का आयोजन किया गया है| इस कवि सम्मलेन के आयोजन की सूचना पाकर अब एक बार जनता में सीधे सवाल खड़े किये जा रहे हैं| क्षेत्रीय लोगों द्वारा यह चर्चा का विषय बना हुआ है कि सामाजिक सरोकारों से रूबरू कराने वाले बस्ती महोत्सव का बहिष्कार करने वाले विधायक अब कहाँ के पैसे से कवि सम्मलेन व मुशायरा करावा रहे हैं? क्या इसमें जनता का पैसा नहीं लगा है?

विधायक द्वारा रुधौली थाना शिवमंदिर प्रांगण में करवाए गए कवि सम्मलेन में सूनी पड़ी जनता की कुर्सियां - Basti Khabar

विधायक द्वारा रुधौली थाना शिवमंदिर प्रांगण में करवाए गए कवि सम्मलेन में सूनी पड़ी जनता की कुर्सियां

विधायक के लिए रहत की बात ये हैं कि जिस तरह बस्ती महोत्सव को कराने के लिए वसूली का आरोप विधायक ने जिला प्रशासन पर खुलकर लगाया था और विधायक द्वारा वसूली के चिन्हित स्थान मीडिया को बताये गए थे उस तरह विधायक द्वारा करवाए जा रहे राष्ट्रीय कवि सम्मलेन को कराने में किसी तरह का वसूली करने का आरोप खुलकर अभी तक किसी ने नहीं लगाया है|

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बस्ती जनपद में बीते 28 जनवरी से लगातार पांच दिनों तक सामाजिक कार्यक्रमों, साहित्य व कला संस्कृतियों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से बस्ती महोत्सव का आयोजन किया गया था| जिसका सञ्चालन जिला प्रशासन द्वारा बड़े ही कुशलता और भव्यता से किया गया| इस कार्यक्रम में दूर-दराज़ के क्षेत्रों से साहित्य, संगीत व कौशल के धनी क्षेत्रीय लोगों द्वारा प्रतिभाग किया गया| इस वर्ष के आयोजित बस्ती महोत्सव में हिन्दी साहित्य के धुरंधर कवि कुमार विश्वास भी इस कार्यक्रम में मौजूद रहे| साथ ही जिलास्तरीय भाजपा के तमाम कार्यकर्त्ता व पदाधिकारियों का भरपूर सहयोग इस बस्ती महोत्सव में रहा|

READ  Basti Coronavirus Update: बस्ती में बाहर से आए 14821 लोगों को किया गया है क्वारंटीन