Top

Happy Birthday Virender Sehwag: खिलाड़ी जिसने क्रिकेट को बदलकर रख दिया

वीरेंदर सहवाग
X

वीरेंदर सहवाग

वीरेंदर सहवाग एक ऐसा बल्लेबाज जो गेंदबाजों पर हमला बोलता था। उसका स्टाइल अलग था लेकिन सिंपल- See the ball, hit the ball. इयान चैपल कहते थे कि क्रिकेट तमाम तकनीकों के बावजूद बुनियादी तौर पर यही है और सहवाग इस बुनियादी नियम का पालन करते हैं।

नई दिल्ली/Virender Sehwag Birthday: आज टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और धाकड़ बल्लेबाज वीरेंदर सहवाग का 42वां जन्मदिन है। आज ही के दिन सन 1978 मे पैदा हुए सहवाग ने अपने स्टाइल से क्रिकेट के खेल में कई कीर्तिमान बनाए।

साल 2001 की बात है भारतीय टीम 69 रन पर चार विकेट खोकर संघर्ष कर रही थी। सचिन तेंडुलकर क्रीज पर थे और उनका साथ देने उतरा डेब्यू कर रहा एक खिलाड़ी। 23 साल का युवा बल्लेबाज वीरेंदर सहवाग। सहवाग की घरेलू क्रिकेट में पहचान ताबड़तोड़ बल्लेबाज की थी। यह टेस्ट क्रिकेट था। वह भी साउथ अफ्रीका में। तेज और उछालभरी पिचें। और उस पर रफ्तार से गेंदबाजी करते शॉन पॉलक और मखाया नतिनी। पर इस लड़के ने आते ही जवाबी हमला बोला। शानदार स्ट्रोक्स लगाए। अपने आदर्श सचिन तेंडुलकर के हर शॉट को मैच करते हुए। और शतक लगाया। अपने पहले ही टेस्ट में सेंचुरी। 19 चौकों के साथ। यह वीरेंदर सहवाग के टेस्ट करियर का आगाज था।

सहवाग को इसके बाद टेस्ट क्रिकेट में पारी की शुरुआत करने की जिम्मेदारी दी गई। इसके बाद तो उन्होंने रेकॉर्ड्स का अंबार लगाना शुरू कर दिया। उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में सलामी बल्लेबाज की परिभाषा को बदलकर रख दिया। सहवाग और अन्य कई युवा खिलाड़ियों को निखारने और उनकी प्रतिभा को पहचान कर मौके देने वाले कप्तान सौरभ गांगुली ने एक इंटरव्यू में कहा था, 'पहले ओपनर गेंद को छोड़-छोड़कर पुराना करते थे, वीरू मार-मार कर पुराना करता था।'

परंपरागत टेस्ट क्रिकेट में सलामी बल्लेबाज की भूमिका नई गेंद पर संभलकर खेलना और विकेट बचाते हुए जमे रहना होता था। यानी शुरुआती वक्त में बल्लेबाजी करने वाली टीम पर दबाव होता था। पर वीरेंदर सहवाग ने इसे उलटा कर दिया। वह पहली ही गेंद से विपक्षी टीम पर करारा हमला बोलते थे। सामने वाली टीम के स्टार गेंदबाजों की लाइन और लेंथ बिगाड़ देते थे। यानी अब दबाव विपक्षी टीम पर होता था कि उसे ज्यादा रन नहीं देने हैं।

100 से ज्यादा स्ट्राइक रेट से बल्लेबाजी

टेस्ट क्रिकेट में 100 से ज्यादा के स्ट्राइक रेट से सबसे बड़ी इनिंग्स खेलने का वर्ल्ड रेकॉर्ड सहवाग के नाम है। उन्होंने 2008 में चेन्नै टेस्ट में साउथ अफ्रीका के खिलाफ 104.93 के स्ट्राइक रेट के साथ 319 रन बनाए थे। टेस्ट मैचों में डॉन ब्रैडमैन (334, 304, 299*) के अलावा सिर्फ वीरेंदर सहवाग (319, 309, 293) ने दो ट्रिपल सेंचुरी और एक 290 से ज्यादा का स्कोर बनाया है।

टेस्ट क्रिकेट में सबसे कम बॉल (278) पर ट्रिपल सेंचुरी का वर्ल्ड रेकॉर्ड सहवाग के नाम है। इसके अलावा टेस्ट क्रिकेट में ट्रिपल सेंचुरी और वनडे में डबल सेंचुरी लगाने वाले दुनिया के पहले बैट्समैन हैं सहवाग। उनके अलावा क्रिस गेल ऐसा कर चुके हैं। टेस्ट क्रिकेट में सबसे फास्ट जो टॉप 12 डबल सेंचुरी हैं, उनमें से 5 वीरेंदर सहवाग के बैट से निकली हैं।

वनडे में भी लगाया दोहरा शतक

टेस्ट के अलावा सहवाग ने एकदिवसीय क्रिकेट में भी दोहरा शतक लगाया। उन्होंने 8 दिसंबर 2011 को इंदौर में वेस्टइंडीज के खिलाफ 219 रन की पारी खेली थी। सहवाग के करियर की बात करें तो उनके नाम 104 टेस्ट मैचों में 49 के अधिक से औसत से 8586 रन हैं और उनका स्ट्राइक रेट 82.33 का रहा। वहीं वनडे इंटरनैशनल में उन्होंने 251 मैचों में 8273 रन बनाए। यहां उनका स्ट्राइक सेट 104.33 का रहा।


Basti Khabar

Basti Khabar

Basti Khabar Pvt. Ltd. Desk


Next Story
Share it