30 C
Uttar Pradesh
Sunday, October 2, 2022

पंचमहायज्ञों में ही छिपा है विश्व का कल्याण: पं. नेम प्रकाश त्रिपाठी

भारत

डॉ. एसके सिंह
डॉ. एसके सिंह
Dr. SK Singh is a senior journalist, he has also worked for Dainik Jagran and Amar Ujala's newspapers.

बस्ती। आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर पूरा देश भारतवर्ष के गौरववृध्दि के लिए विभिन्न कार्यक्रम आयोजित कर अपना योगदान कर रहा है। इसी कड़ी में आर्य समाज नई बाजार बस्ती द्वारा आयोजित सप्तदिवसीय वेदप्रचार कार्यक्रम के तृतीय दिवस का यज्ञ ग्राम नरहरिया में योग शिक्षक अजीत कुमार अनीता पाण्डेय की अगुवाई में सम्पन्न हुआ जिसमें सूर्यनारायण-गायत्री पाण्डेय पूर्व शाखा प्रबंधक भारतीय स्टेट बैंक व अतुल कुमार-सरिता पाण्डेय पशुधन प्रसार अधिकारी बस्ती यजमान रहे।

यज्ञाचार्य ओमव्रत ने बताया कि संसार के कल्याण के लिए हमारे ऋषियों ने यज्ञकर्म का उपदेश किया है। यज्ञ केवल मनुष्यों के लिए ही नहीं बल्कि पूरी समष्टि के कल्याण के लिए होता है।

पंडित नेम प्रकाश त्रिपाठी ने भजनों के माध्यम से बताया कि, श्रावणी स्वाध्याय का पर्व है स्वाध्याय से ही जीवन संस्कारित होता है। ईश्वर का मुख्य नाम ओम है। शेष सारे नाम उसी के गौण नाम हैं। हमारे ऋषियों ने ब्रह्मयज्ञ, देवयज्ञ, बलिवैश्वदेव यज्ञ, पितृ यज्ञ, अतिथि यज्ञ इन पंचमहायज्ञों को करने का निर्देश किया है। इसके होते रहने से ही विश्व का कल्याण सम्भव है। ब्रह्ममुहूर्त में उठने से हमारी जीवनशैली ठीक बनी रहती है और शरीर रोगमुक्त रहता है।

सायंकालीन कार्यक्रम में उपदेश करते हुए सृष्टि में बनी हर रचना अपने मूल स्रोत की ओर ही उन्मुख रहती है। इसलिए संसार की आत्माएं स्वाभाविक रूप से परमात्मा की ओर आकर्षित होती हैं लेकिन मन पर नियंत्रण न होने से वह सांसारिक पदार्थों में ईश्वर को ढूंढते रहते हैं।

कार्यक्रम का संचालन करते हुए आचार्य देवव्रत ने बताया कि, दिनांक 14 अगस्त को रामजानकी मंदिर गाँधी नगर बस्ती में गोपेश्वर त्रिपाठी क्षेत्रीय अध्यक्ष किसान मोर्चा गोरखपुर क्षेत्र भाजपा के नेतृत्व में सम्पन्न होगा। कार्यक्रम में राधेश्याम आर्य, गरुण ध्वज पाण्डेय, श्रीमती सुनीता द्विवेदी, शानू द्विवेदी, शिवकुमारी, प्रज्ञा पाण्डेय सहित अनेक लोग कार्यक्रम में सम्मिलित रहे।

Advertisement
- Advertisement -

सबसे अधिक पढ़ी गई

- Advertisement -

ताजा खबरें