सीएए पर लोगों के भ्रम दूर करने के बाद एनआरसी पर विचार: अमित शाह

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला साल पूरा होने पर गृह मंत्री अमित शाह कहा की सीएए को लेकर लोगों के बीच एक भ्रांति पैदा की गई थी की सीएए से लोगों की नागरिकता जाने वाली है. एनआरसी पर उन्होने ने न्यूज़18 इंडिया से ख़ास बातचीत में कहा की अब सरकार पहले सीएए पर लोगों के भ्रम दूर करने के बाद एनआरसी पर विचार करेंगे. इसके साथ ही उन्होने दिल्ली में हुए दंगों पर हो रही जाँच के बारे में बताया. उन्होने कहा, “दिल्ली दंगों को भड़काने वालों और इसकी साजिश करने वालों पर कठोर कार्रवाई की जाएगी. अब तक के सभी दंगों में इन दंगों में सबसे कठोर कदम उठाए जाएंगे. भले ही कोई बड़ा आदमी दंगे के लिए जिम्मेदार हो उसके खिलाफ कदम उठाएंगे.”

गृह मंत्री ने कहा कि जब मैंने राज्यसभा में भाषण दिया तो कपिल सिब्बल, आनंद शर्मा और गुलाम नबी आजाद ने भी इस बात को स्वीकार किया कि हम नहीं कहते कि इससे नागरिकता जाएगी लेकिन फिर भी उनकी पार्टी की अध्यक्षा रामलीला मैदान में क्यों ऐसा बोलीं कि ये लोगों के अस्तित्व की लड़ाई है, सड़कों पर आ जाइये. क्यों लोगों को उकसाया गया. गृह मंत्री ने कहा, ये सब लंबा नहीं चलता है हमने भी अपनी बातों को रखा, संसद में भी इस पर कई बार चर्चा हुई है और धीरे-धीरे ये बात नीचे तक पहुंची है कि सीएए से किसी की भी नागरिकता नहीं जाने वाली है और इसे गलत तरीके से लोगों के सामने रखा गया है.

READ  सिलेंडर 150 रुपए महंगा हुआ, तो जनता ने स्मृति ईरानी के पुराने ट्वीट खोद निकाले

चीन के साथ चल रही तनातनी पर केंद्रीय गृहमंत्री ने कहा कि एल आए सी पर तनातनी के स्वभाव को कोई सार्वभौम राष्ट्र हल्के में नहीं ले सकता. “हमारी डिप्लोमैटिक और सैनिक बातचीत जारी है लेकिन नरेन्द्र मोदी सरकार इस पर कोई समझौता नहीं करेगी और हम इसके लिये अडिग खड़े रहेंगे.” यह पूछे जाने पर कि क्या तमाम संबंध सुधारने की कोशिशों के बाद भी चीन की इस हरकत से आप नाराज हैं, केंद्रीय गृहमंत्री ने कहा कि हमें इसकी जरूरत नहीं है. पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होने कहा की उनकी सरकार का कमिटमेंट है कि पीओके भारत का हिस्सा है.

अर्थव्यवस्था को वैश्विक संकट से आई चोट पर केंद्रीय गृहमंत्री ने पीएम मोदी का आत्मनिर्भरता का मंत्र दोहराया. उन्होंने कहा, हम 4 सूत्रीय आत्मनिर्भरता में इसे बदलेंगे. यह देश आत्मनिर्भरता से भरा है और पीएम मोदी के कहे अनुसार हम इस संकट को एक अवसर में बदलेंगे.

वोकल फॉर लोकल के बारे में यह पूछे जाने पर कि क्या यह कदम हमें दुनिया से काट देगा, केंद्रीय गृहमंत्री ने कहा, “इससे हम जरा भी पीछे हम नहीं जायेंगे. 130 करोड़ की आबादी हमारी शक्ति है. क्या अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में इसका प्रयोग नहीं करना चाहिये. इससे भारत में निवेश कम होने की संभावना नहीं है. इससे निवेश बढ़ेगा. अगर भारतीय यहां के उत्पादों का प्रयोग करने का निर्णय करते हैं तो इससे भारत मैन्युफैक्चरिंग का हब बनेगा. हमें भरोसा है कि इससे हमारे अर्थतंत्र को एक नई गति मिलेगी. आशा और रणनीतिक के जरिये जो अपना रास्ता प्रशस्त करते हैं ईश्वर भी उनका साथ देता है.”

READ  कोरोना वायरस और भारत: वो सब कुछ जो आपको जानना चाहिए

कोरोना वायरस पर बातचीत के दौरान गृह मंत्री ने कहा कि कोरोना के खिलाफ मोदी जी के नेतृत्व में जो रणनीति बनी उसके तहत दिया जलाओ और घंटी बजाओ, कोरोना वॉरियर सम्मान के साथ पीएम मोदी ने अपने यहां लोगों को रणनीतिक रूप से इसके लिये तैयार किया. “भारत में प्रति लाख आबादी पर 12.6 लोग कोरोना से संक्रमित हैं, जबकि दुनिया में 77.6 लोग कोरोना से संक्रमित हैं. पूरी दुनिया की तुलना में हमने इसे बहुत अच्छे से कंट्रोल किया है. जब तक टीका या दवाई नहीं ढूंढ़ी जाती तब तक इस महामारी के साथ जीने की हालत डालनी पड़ेगी.”

उन्होने बताया, कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन से प्रवासी मज़दूरों को बहुत से परेशानियों का सामना करना पड़ा. इस पर बात करते हुए अमित शाह ने कहा ऐसा कहना उचित नहीं है कि सरकार ने लॉकडाउन में जल्दबाजी की. उन्होने बताया, “अगर हम समय देते जाने के लिए तो भगदड़ मच जाती. उस समय हमारी टेस्टिंग, क्वारंटाइन व्यवस्था अच्छी नहीं थी. हमने अगले 2 महीनों में इन सुविधाओं की व्यवस्था की. पहले बस सेवा शुरू की गई जिससे 41 लाख श्रमिक भेजे गये. बसें आसपास के राज्यों के लिये चलाई गईं. बाद में श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन शुरू किया गया, जिससे 55 लाख प्रवासी मजदूरों को उनके घर भेजा गया.

गृहमंत्री ने यह भी कहा कि कुछ लोगों ने धैर्य खोया और पैदल चलने लगे तो हमने कई लोगों को बस के जरिये निकटतम रेलवे स्टेशन या उनके निवास जिले तक पहुंचाया. इसके अलावा टिकट के साथ राज्यों ने इन मजदूरों को 500 से 2000 तक रुपये दिये. वे जल्दबाजी न करें इसके लिये इलाकों में रिक्शे चलाकर सरकारों ने संदेश उनतक पहुंचाया. 11 हजार करोड़ रुपये राज्य सरकारों को खाना खिलाने के लिये दिये गये.”

READ  Galwan Valley: भारत चीन मामले पर रिपोर्ट दिखा रही टीवी एंकर के 10 सेकंड के न्यूज़ क्लिप पर विदेशी मीडिया ले रहा मजा

Report-Srishti Jain 18 Network