Top

'जनता कर्फ्यू' वाले दिन हजारों ट्रेनें नहीं चलेंगी, इस दिन का टिकट कटा लिया है तो क्या करें?

जनता कर्फ्यू वाले दिन हजारों ट्रेनें नहीं चलेंगी, इस दिन का टिकट कटा लिया है तो क्या करें?
X

19 मार्च को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी टीवी पर आए. एक टर्म उछाला. जनता कर्फ्यू. 22 मार्च को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक उन्होंने लोगों से घर से बाहर ना निकलने की अपील की. कोरोना वायरस के बढ़ रहे खतरे के चलते.

जाहिर है इसका असर भी देखने को मिलेगा. रुक जाने के इस दौर में रोजमर्रा की भी कई चीज़ें रुक जाने वाली हैं. इनमें ट्रेनें भी शामिल हैं. दिल्ली मेट्रो इस दिन बंद रहेगी. सभी पैसेंजर ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है 21 मार्च यानी शनिवार रात 12 बजे से लेकर 22 मार्च रात 10 बजे तक. लंबी दूरी की 1300 ट्रेन नहीं चलेंगी और कुल मिलाकर इस दिन 4,000 ट्रेन कैंसल हो गई हैं.

टिकट है तो क्या होगा?

इसका मतलब क्या? इसका मतलब लोगों के प्लान भी कैंसल होंगे. लेकिन जो ट्रेनें जनता कर्फ्यू के दौरान रास्ते में होंगी, वो अपनी निर्धारित जगह पर पहुंचने के बाद ही रोकी जाएंगी. वैसे भी बहुत ज़रूरी ना हो तो सफ़र ना करने की सलाह दी जा रही है. लेकिन जिनके लिए ज़रूरी है और इस दिन की टिकट कटा ली है, वो क्या करें?

इस पर हमने बात की नॉर्दर्न रेलवे के चीफ पब्लिक रिलेशन ऑफिसर (CPRO) दीपक कुमार से. उन्होंने कहा,

भारत सरकार ने एडवायज़री ज़ारी की है कि किसी भी तरह का ग़ैर-ज़रूरी ट्रैवेल ना करें. ये तो जनता का ख़ुद पर लगाया गया कर्फ्यू है. जिन लोगों का टिकट है, उन्हें हम पूरा रिफंड देंगे. ट्रेन ना चलने से परेशानी होगी लेकिन जान से ज़्यादा क्या कीमती है?

पीएम मोदी ने 19 मार्च को देश के नाम संबोधन में जनता कर्फ्यू की अपील की थी.
पीएम मोदी ने 19 मार्च को देश के नाम संबोधन में जनता कर्फ्यू की अपील की थी.

मतलब किसी ऐसी ट्रेन में आपका टिकट है, जो नहीं चलेगी तो आपको अपना प्लान रद्द करना पड़ेगा या आगे बढ़ाना पड़ेगा. टिकट के पैसे पूरे मिल जाएंगे. इन सबके अलावा IRCTC भी अपने फूड प्लाजा, रिफ्रेशमेंट रूम और किचन बंद रखेगा. साथ ही रविवार से ट्रेनों में केटरिंग सर्विस भी बंद रहेगी.

पीएम मोदी ने क्या कहा था

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 19 मार्च की रात देशवासियों को संदेश दिया था. उन्होंने कहा कि भारत संकल्प और संयम के जरिए कोरोना वायरस को हरा सकता है. रविवार 22 मार्च को जनता कर्फ्यू होगा, सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक. पीएम मोदी ने कहा कि इससे पता चलेगा कि हम कोरोना महामारी के संकट से निपटने के लिए कितने तैयार हैं. लेकिन जनता कर्फ्यू आमतौर पर लगने वाले कर्फ्यू से अलग होगा. पीएम मोदी के अनुसार, जनता कर्फ्यू यानी जनता के लिए, जनता द्वारा खुद पर लगाया गया कर्फ्यू होगा.

भारत में कोरोना की स्थिति

कोरोना वायरस के देशभर में 231 केस सामने आ चुके हैं. चार भारतीयों की मौत हो चुकी है. 22 लोग ठीक होकर डिस्चार्ज कर दिए गए हैं. दुनियाभर में कोरोना वायरस से अब तक दस हजार से ज़्यादा लोगों की मौत हो गई है.

Next Story
Share it