भारत और चीन के बीच तनाव का फ़ायदा लेने के लिए पाकिस्तान की उछल – कूद, भारत की मौजूदा रणनीति से घबराया पाक लगा रहा है आरोप

 भारत और चीन के बीच तनाव का फ़ायदा लेने के लिए पाकिस्तान की उछल – कूद, भारत की मौजूदा रणनीति से घबराया पाक लगा रहा है आरोप

Pakistan PM Imran Khan/ Photo- @ImranKhanPTI

गलवान घाटी में अधिकार क्षेत्रों को लेकर भारत और चीन के बीच तनाव की चर्चा समूचे विश्व में फैल चुकी है| इस पूरे मामले में भारत को नीचा दिखाने व खुद को चीनियों का सच्चा वफ़ादार साबित करने में भला पाकिस्तान कैसे पीछे रह सकता था| जम्मू – कश्मीर से धारा 370 हटाकर उसे भारतीय केंद्रशासित प्रदेश का दर्जा देने के बाद पाकिस्तान की हड़बड़ाहट काफी तेज हो गयी है|

भारत सरकार की सूझ – बुझ व देश के बुलंद उत्साह के चलते जम्मू-कश्मीर मामले पर पाकिस्तान की एक भी न चली| मगर अब भी मुह की खाए पाकिस्तान ने टकटकी लगा रखी है कि, अब कौन सा मौका मिले भारत को पटखनी देने का|

भारत और चीन के बीच गलवान घाटी में दोनों देशों के सैनिकों के विवाद के बाद की मौजूदा स्थितियों को देखते हुये पाकिस्तान ने एक बार फिर कूटनीतिक चाल शुरू कर दी है| पाकिस्तान को लगता है कि वह भारत को तनावपूर्ण स्थिति में एक और संकट से घेर कर चीन का अच्छे से साथ दे सकता है| लेकिन बार-बार की हार और बेईज्जती से पाकिस्तान को कोई फर्क नही पड़ रहा है|

मंगलवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने ट्वीट करते हुये भारत सरकार पर आरोप लगाया है कि, पहले आईओजेके के अवैध अनाउंसमेंट में भारत का प्रयास और अब 25,000 भारतीय नागरिकों को अधिवास प्रमाण पत्र जारी करके आईओजेके की जनसांख्यिकीय संरचना को बदलने की कोशिशें, यूएनएससी के प्रस्तावों और अंतर्राष्ट्रीय कानून का उलंघन है|

पाक पीएम ने आरोप लगाते हुये देश के नागरिकों को भड़काने की कोशिश भी की है| इमरान खान ने कहा कि, “मैंने संयुक्त राष्ट्र महासचिव से संपर्क किया है, और दुनिया के अन्य नेताओं से संपर्क कर रहा हूं। भारत को इस अस्वीकार्य रास्ते से रोका जाना चाहिए जो कश्मीरी लोगों के कानूनी और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर गारंटीकृत अधिकारों को आगे बढ़ाता है, और दक्षिण एशिया में शांति और सुरक्षा को गंभीर रूप से प्रभावित करता है।” पाक पीएम के इस गीदड़ भभकी के पीछे यह स्पष्ट होता है कि दो देशों के बीच मौजूद तनाव में वह भारत को कूटिनीतिक चाल में फंसा कर एक नया संकट खड़ा करने की नाकाम कोशिश कर रहा है|

READ  ब्रिटेन की अदालत ने अनिल अंबानी को 10 करोड़ डॉलर जमा करने का निर्देश दिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *