UP Education Update: सूबे के विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में नही होंगी परीक्षाएं, प्रोन्नत से पास होंगे परीक्षार्थी

 UP Education Update: सूबे के विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में नही होंगी परीक्षाएं, प्रोन्नत से पास होंगे परीक्षार्थी

Students

प्रदेश के 18 विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों के 48 लाख से अधिक विद्यार्थी होंगे प्रभावित।

लखनऊ। कोरोना संक्रमण को देखते हुए प्रदेश के विश्वविद्यालयों व डिग्री कॉलेजों में स्नातक व परास्नातक की परीक्षाएं नहीं होंगी। उच्च शिक्षा विभाग की ओर से चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय, मेरठ के कुलपति प्रो. एनके तनेजा की अध्यक्षता में गठित कमेटी ने परीक्षाएं न कराने की संस्तुति की है। करीब 48 लाख से अधिक छात्र-छात्राओं को अगली कक्षा में प्रोन्नत किया जाएगा।

उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा की अध्यक्षता में सोमवार को हुई महत्वपूर्ण बैठक में कमेटी के प्रस्ताव पर सैद्धांतिक रूप से सहमति बन गई है। लेकिन इसकी औपचारिक घोषणा दो जुलाई को की जाएगी।

उच्च शिक्षा विभाग की ओर से गठित कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में स्पष्ट लिखा है कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच परीक्षाएं कराना जोखिम भरा हो सकता है। मार्च में हुए लॉकडाउन के कारण  कई विश्वविद्यालयों में परीक्षाएं शुरू ही नहीं हो पाईं, कुछ में शुरू हुईं तो आधी परीक्षाएं हो पाईं। जुलाई में परीक्षाएं कराने के लिए परीक्षा कार्यक्रम घोषित किए गए तो विरोध शुरू हो गया। इसके बाद उच्च शिक्षा विभाग ने चार सदस्यीय कमेटी का गठन किया था। इस कमेटी की रिपोर्ट को देखते हुए अब प्रोन्नति पिछली कक्षा में मिले अंक के आधार पर दी जाए या सभी विषयों में मिले अंक में से जिस विषय में ज्यादा अंक मिले हैं उसे आधार मानकर रिजल्ट तैयार किया जाएगा।

बीएड परीक्षा 29 को

पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार बीएड की संयुक्त प्रवेश परीक्षा 29 जुलाई को ही होगी। इसके लिए तैयारी करने के निर्देश दिए गए।

READ  UPPCL Bill payment: उत्तर प्रदेश के निवासी बिजली बिल का भुगतान कैसे करे?

स्कूलों में वर्चुअल क्लास विश्वविद्यालयों, में ऑनलाइन दाखिले

कोरोना के चलते अभी विद्यार्थियों को स्कूल नहीं बुलाया जाएगा। प्राइमरी व माध्यमिक स्कूलों में वचरुअल क्लासेज ही चलेंगी। एक जुलाई से सरकारी प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक स्कूलों में शिक्षकों को बुलाया जाएगा। छह जुलाई से माध्यमिक स्कूलों में शिक्षक व कर्मचारी ड्यूटी पर आएंगे। प्रवेश परीक्षा संभव नहीं होगी इसलिए विश्वविद्यालयों व कॉलेजों में मेरिट के आधार पर ऑनलाइन दाखिले होंगे। यह निर्णय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में की गई बैठक में लिया गया।

अन्य कोर्सेज में भी मिलेगी राहत

इंजीनियरिंग कॉलेजों और मैनेजमेंट सहित विभिन्न कोर्सेज में पढ़ रहे करीब सवा दो लाख विद्यार्थियों को भी बड़ी राहत मिलेगी इसके लिए प्रस्ताव भेजा जा चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *