यूपी: मिड-डे मील में बच्चों को ऐसी तहरी खिलाई कि चावल माइक्रोस्कोप से ढूंढना पड़े!

 यूपी: मिड-डे मील में बच्चों को ऐसी तहरी खिलाई कि चावल माइक्रोस्कोप से ढूंढना पड़े!

यूपी: मिड-डे मील में बच्चों को ऐसी तहरी खिलाई कि चावल माइक्रोस्कोप से ढूंढना पड़े! – Basti Khabar

उत्तर प्रदेश का मिर्ज़ापुर. यहां मझवां विकास खंड में बरैनी गांव का प्राइमरी स्कूल. इस स्कूल के मिड डे मील में गड़बड़ी का मामला सामने आया है. यहां एक किलो चावल में 32 बच्चों के लिए तहरी बना दी गई. पानी से छपाछप. साथ ही सबके लिए 400 मिलीलीटर दूध में ही काम चला दिया गया. क्लास में 68 बच्चे रजिस्टर्ड हैं. इनमें 32 मौजूद थे.

मामला सामने आने के बाद डीएम ने जांच के आदेश दे दिए हैं. मिड डे मील के मंडलीय को-ऑर्डिनेटर राकेश तिवारी ने इस स्कूल को विजिट किया, जिसमें ये बात सामने आई. उन्होंने कहा,

‘इससे पहले भी इस स्कूल का कई बार विजिट किया गया है. प्रिंसिपल तेजू से मेन्यू के हिसाब से मानक दुरुस्त करने को कहा गया, लेकिन ऐसा नहीं हुआ.’

मिर्ज़ापुर के बीएसए वीरेंद्र कुमार सिंह ने कहा कि मामले में जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके ख़िलाफ़ कार्रवाई की जाएगी.

यूपी और मिड डे मील 

ऐसी घटनाएं उत्तर प्रदेश से पहले भी सामने आई हैं, जब मिड डे मील में लापरवाही की गई है. मिर्ज़ापुर से ही एक मामला आया था, जिस पर खूब चर्चा हुई थी. यहां एक स्कूल में बच्चों को नमक-रोटी दे दी गई थी. मामले को सामने लाने वाले पत्रकार पर FIR भी कर दी गई थी.

नवंबर, 2019 में सोनभद्र के सलईबनवा प्राइमरी स्कूल में एक लीटर दूध में पानी मिलाकर 80 बच्चों में बांट दिया गया था. तब एक शिक्षामित्र बर्खास्त कर दिया गया था और टीचर को सस्पेंड किया गया.

इस मामले पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने ट्वीट किया था, ‘दिखावटी भाजपा सरकार, मिलावटी पोषण आहार.’

READ  नागरिकता कानून: आजमगढ़ में सैकड़ों प्रदर्शनकारियों पर राजद्रोह का मामला दर्ज, 19 गिरफ्तार