Top

पश्चिम बंगाल: अमित शाह की रैली से पहले लगा ‘गोली मारो…’ का नारा, तीन भाजपा कार्यकर्ता गिरफ़्तार

रविवार को शहीद मीनार मैदान में हुई गृहमंत्री अमित शाह की रैली में जाते हुए भाजपा समर्थकों के समूह द्वारा ‘देश के गद्दारों को, गोली मारो…’ के नारे लगाता हुआ एक वीडियो सामने आया है. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इसकी निंदा करते हुए कहा कि यह दिल्ली नहीं है, यहां ये बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

कोलकाता: कोलकाता पुलिस ने सोमवार को बताया कि उसने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह की रैली में जाते समय कथित रूप से ‘देश के गद्दारों को, गोली मारो…’ नारे लगाने वाले भाजपा के तीन कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया है.

कोलकाता पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘भड़काऊ नारे लगाने की यह हरकत भाजपा समर्थकों ने की थी. यह संज्ञेय अपराध है.’

आरोपियों ने रैली स्थल शहीद मीनार मैदान में जाते समय एस्प्लेनेड मार्ग पर मैदान बाजार से गुजरते समय नारेबाजी की थी. अधिकारी ने बताया कि एक व्यक्ति ने रविवार को नया बाजार थाने में शिकायत दर्ज कराई, जिसके आधार पर इन तीनों को गिरफ्तार किया गया.

रविवार को माकपा नेता मो. सलीम ने ट्विटर पर यह वीडियो साझा किया था. उन्होंने लिखा था, ‘गोली मारो… ..’ का नारा कोलकाता तक पहुंचने के लिए अमित शाह की केवल एक रैली लगी. गोडसे समर्थक ‘गोली’ से प्रभावित हो ,सकते हैं, लेकिन बंगाल विवेकानंद, काजी नज़रुल इस्लाम और टैगोर की भूमि है.’

इस वीडियो में एक समूह भाजपा का झंडा हाथ में लेकर यह नारा लगाते हुए सड़क पर जा रहा है. पुलिस ने बताया कि नारे लगाने वालों की पहचान ध्रुव बसु, पंकज प्रसाद और सुरेंद्र कुमार तिवारी के रूप में हुई है. उन्हें रविवार देर रात गिरफ्तार किया गया.

एक अधिकारी ने कहा, ‘उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की दो गैर-जमानती धाराओं समेत चार धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है. उन्हें सोमवार को अदालत में पेश किया जाएगा.’

यह घटना सामने आने के बाद रविवार को भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई की तीखी आलोचना हुई थी. सोमवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस घटना की निंदा की है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार बनर्जी ने कहा, ‘मैं कोलकाता की सड़कों पर ‘गोली मारो… ..’ का नारा लगाने वालों की निंदा करती हूं. यह दिल्ली नहीं है और हम इसे बर्दाश्त नहीं करेंगे. कानून अपने हिसाब से काम करेगा.’

हालांकि भाजपा नेताओं ने इस घटना में पार्टी के किसी भी कार्यकर्ता की संलिप्तता से इनकार करते हुए इसे तृणमूल कांग्रेस की कारस्तानी बताया था. गृहमंत्री अमित शाह रविवार को एक दिवसीय कोलकाता दौरे पर थे.

इससे पहले शनिवार को यही नारा दिल्ली के राजीव चौक मेट्रो स्टेशन के अंदर एक भगवाधारी समूह द्वारा भी लगाया गया था, जिसके बाद इन लोगों को हिरासत में ले लिया गया था.

मालूम हो कि ‘देश के गद्दारों को, गोली मारो…’ जैसे नारे को सबसे पहले सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों के खिलाफ भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने लगाए थे. इसके बाद दिल्ली चुनाव के दौरान एक रैली में केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने भी मंच से यह नारा लगाया था.

दिल्ली में दंगे भड़कने के बाद भड़काऊ भाषणों पर पुलिस द्वारा एफआईआर दर्ज न करने पर एक याचिका पर सुनवाई करते हुए बीते 26 फरवरी को दिल्ली हाईकोर्ट ने नाराजगी जाहिर की थी और पुलिस से 24 घंटे में इस पर फैसला करने के लिए कहा था.

हालांकि, उसी रात मामले की सुनवाई करने वाले दिल्ली हाईकोर्ट के जज जस्टिस एस. मुरलीधर के पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में तबादले का आदेश केंद्र सरकार ने जारी कर दिया और मामला हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस के पास चला गया.

27 फरवरी को हाईकोर्ट में केंद्र सरकार की ओर से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि भड़काऊ भाषणों पर कार्रवाई का यह सही समय नहीं है. इसके बाद एफआईआर दर्ज का फैसला करने पर हाईकोर्ट ने केंद्र को जवाब दाखिल करने के लिए चार सप्ताह का समय दिया है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Next Story
Share it