योगी सरकार ने माना, यूपी में दो साल में लाखों बेरोजगार बढ़ गए

 योगी सरकार ने माना, यूपी में दो साल में लाखों बेरोजगार बढ़ गए

योगी सरकार ने माना यूपी में दो साल में लाखों बेरोजगार बढ़ गए – Basti Khabar

उत्तर प्रदेश. उम्मीदों का प्रदेश. ऐसा कम से कम प्रचार में तो कहा ही जाता है. लेकिन यहां बेरोजगारों की उम्मीदें टूटती जा रही हैं. राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार ने कहा है कि राज्य में करीब 34 लाख लोग बेरोजगार हैं. यही नहीं, सरकार ने ये भी माना कि दो साल में 12.5 लाख बेरोजगार बढ़ गए.

यूपी के श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या ने राज्य विधानसभा में दिए गए एक जवाब में कहा कि श्रम मंत्रालय की तरफ से चलाए जा रहे एक पोर्टल पर 7 फरवरी, 2020 तक 33.93 लाख बेरोजगार रजिस्टर किए गए. इकॉनमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 2018 में दिए गए एक जवाब में मौर्या ने बताया था कि इसी पोर्टल पर 30 जून, 2018 तक 21.39 लाख बेरोजगार रिजस्टर किए गए थे. यानी बेरोजगार 60 फीसदी बढ़े हैं.

निवेश की दिक्कतें?

हालांकि स्वामी प्रसाद मौर्या ने बेरोजगारी में इस बढ़ोतरी के कारण नहीं गिनाए. इकॉनमिक टाइम्स के मुताबिक, राज्य के एक बीजेपी पदाधिकारी ने कहा कि दो सालों में बेरोजगार ज्यादा रजिस्टर कर रहे हैं क्योंकि उन्हें इनवेस्टर समिट और डिफेंस कॉरिडोर प्रोजेक्ट के बाद रोजगार की उम्मीद थी. सीएम योगी आदित्यनाथ वादा करते रहे हैं कि कंपनियों के निवेश के बाद राज्य में लाखों रोजगार पैदा होंगे.

सपा प्रवक्ता उदयवीर सिंह ने कहा कि वर्तमान सरकार के दौरान निवेश के लिए माहौल न होने की वजह से रोजगार तेजी से बढ़ा है. उन्होंने कहा, ”मुख्यमंत्री की तरफ से तमाम बातचीत के बाद भी कोई निवेश नहीं आया है. सारा निवेश अखिलेश यादव सरकार के समय आया. यूपी में लॉ एंड ऑर्डर की बढ़ रही समस्या की वजह से स्थिति और बिगड़ गई है. आर्थिक सुस्ती का असर भी बेरोजगारी के इस आंकड़े में दिख रहा है.”

READ  Sarkari Result और Sarkari Job की नवीनतम सूचनाओं के लिए sarkariresult.com पर जाएँ, Sarkari Result की ये है Original वेबसाइट

यूपी में अर्बन बेरोजगारी सबसे ज़्यादा

नेशनल स्टैटिस्टिकल ऑफिस (NSO) ने हाल ही में कहा था कि दिसंबर, 2018 तक यूपी के अर्बन एरिया में 16 फीसदी की दर से सबसे ज्यादा बेरोजगारी है जो कि पूरे भारत की अर्बन बेरोजगारी (9.9 फीसदी) से ज्यादा है. सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकॉनमी (CMIE) ने कहा कि 2019 में यूपी में औसत बेरोजगारी 9.9 फीसदी की दर से बढ़ी. यूपी के श्रम मंत्रालय का दावा है कि 2018-19 में रोजगार मेलों से 1.03 लाख रोजगार पैदा हुए जबकि 2017-18 में रोजगार मेलों से 63,152 रोजगार ही पैदा हुए थे.